धार्मिक

12 साल बाद वक्री हुए देवताओं के गुरु बृहस्पति, इन 3 राशियों का चमकेगा भाग्य, धनलाभ के प्रबल योग

वैदिक ज्योतिष के मुताबिक सभी ग्रह-नक्षत्र एक समय अवधि पर अपनी राशि बदलते रहते हैं। जब कोई भी ग्रह अपनी राशि परिवर्तन करता है या फिर वक्री होता है, तो इसका प्रभाव सभी राशि वाले लोगों के जीवन पर देखने को मिलता है। अगर किसी राशि में ग्रह-नक्षत्र की स्थिति ठीक है, तो इसकी वजह से शुभ फल की प्राप्ति होती है परंतु इनकी स्थिति ठीक ना होने के कारण अशुभ फल मिलता है।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार 12 साल बाद गुरु ग्रह अपनी स्वराशि मीन में वक्री हो गए हैं, जहां पर वह 24 नवंबर तक वक्री अवस्था में ही विराजमान रहने वाले हैं। गुरु ग्रह के वक्री होने का असर सभी राशियों पर पड़ेगा। लेकिन ऐसी 3 राशियां हैं, जिनके लिए गुरु ग्रह का वक्री होना बहुत ही शुभ साबित होगा। इस अवधि के दौरान इन राशियों को कारोबार और करियर में सुनहरी सफलता मिलने के प्रबल योग बने हुए हैं। तो चलिए ये राशियां कौन सी हैं? इसके बारे में जान लेते हैं।

वृष राशि

जिन लोगों की वृष राशि है, उनके लिए गुरु बृहस्पति का वक्री होना बहुत ही शुभ साबित होगा। इस राशि वाले लोगों के अच्छे दिनों की शुरुआत होने की प्रबल संभावना बनी हुई है क्योंकि गुरु ग्रह आपकी राशि में 11वें स्थान में वक्री हुए हैं। इस स्थान को आय और लाभ का स्थान माना जाता है। इसी वजह से इस अवधि के दौरान आपकी आमदनी में बहुत अच्छी बढ़ोतरी होने की संभावना है। इतना ही नहीं बल्कि इस समय के दौरान आपको नए-नए स्रोतों के माध्यम से धन लाभ हो सकता है। व्यापार करने वाले लोगों को भी अच्छा धन लाभ होने की संभावना है। इसके साथ ही कोई महत्वपूर्ण व्यवसायिक डील फाइनल होने से अच्छा लाभ प्राप्त हो सकता है।

आप इस समय के दौरान वाहन और प्रॉपर्टी की खरीदारी भी कर सकते हैं। इसके साथ ही गुरु ग्रह आपके आठवें स्थान के स्वामी हैं। इसी वजह से जो व्यक्ति रिसर्च की फील्ड से जुड़े हुए हैं, उनके लिए यह समय बहुत ही शानदार रहेगा। अगर आप किसी पुरानी बीमारी से परेशान चल रहे थे, तो उससे भी छुटकारा मिल सकता है। अगर आप इस दौरान एक ओपल रत्न धारण करते हैं, तो यह आपके लिए बहुत लकी साबित हो सकता है।

मिथुन राशि

मिथुन राशि वाले लोगों के लिए गुरु ग्रह का मीन राशि में वक्री होना बहुत ही शुभ साबित होगा। इस राशि के लोगों को करियर और व्यापार में आशातीत सफलता मिलने की प्रबल संभावना हैं। इस राशि में गुरु ग्रह दशम भाव में वक्री हुए हैं। इस भाव को नौकरी, बिजनेस और कार्यक्षेत्र का भाव माना जाता है। इसी वजह से आपको इस दौरान नई नौकरी के ऑफर आ सकते हैं। इसके साथ ही प्रमोशन और इंक्रीमेंट होने की भी संभावना बनी हुई है।

व्यापार से जुड़े हुए लोगों को नए आर्डर आने से अच्छा धन लाभ होगा। इसके साथ ही आपके नए व्यवसायिक संबंध स्थापित होंगे और व्यापार का विस्तार होने से अच्छा लाभ प्राप्त हो सकता है। अगर कोर्ट-कचहरी से जुड़ा हुआ कोई मामला चल रहा है, तो इस दौरान आपको सफलता मिलने की संभावना है। अगर आप एक पन्ना धारण करते हैं तो यह आपके लिए लकी साबित होगा।

कर्क राशि

इस राशि के लोगों को गुरु ग्रह के वक्री होने से आकस्मिक धन लाभ प्राप्ति के योग बने हुए हैं। आपकी राशि में गुरु ग्रह नवम भाव में वक्री हुए हैं, जिसे भाग्य और विदेश यात्रा का स्थान माना जाता है। इसी वजह से आपको अपनी किस्मत का भरपूर साथ मिलता नजर आ रहा है। आपके अटके हुए काम बनेंगे। कारोबार से संबंधित छोटी या बड़ी यात्रा पर जाना पड़ सकता है, जो आपके लिए लाभदायक सिद्ध होगा।

जो लोग विदेश से जुड़ा हुआ व्यापार कर रहे हैं, उन्हें अच्छा धन लाभ हो सकता है। बता दें कि गुरु ग्रह आपके छठे भाव के स्वामी हैं, जिसे रोग, कोर्ट कचहरी और शत्रु का भाव माना जाता है। इसी वजह से आपके साहस और पराक्रम में भी वृद्धि होगी। आप अपने गुप्त शत्रुओं पर विजय प्राप्त करेंगे। वहीं यह गोचर आपके लिए इसलिए भी शुभ साबित हो सकता है क्योंकि आपके राशि के स्वामी चंद्रमा की गुरु ग्रह के साथ मित्रता का भाव है।

Related Articles

Back to top button