मनोरंजन

जब पिता हो गए थे कंगाल, दीपिका सिंह को स्कूल से दिया था निकाल, एक्ट्रेस का छलका दर्द

दीपिका सिंह को आज भी “दीया और बाती हम” की एक्ट्रेस के रूप में जाना जाता है। इस धारावाहिक में काम करके दीपिका सिंह ने घर-घर में अच्छी पहचान बनाई है। दीपिका सिंह की एक्टिंग को लोगों ने खूब सराहा था। संध्या राठी उर्फ़ दीपिका सिंह किसी परिचय की मोहताज नहीं हैं। दीपिका सिंह सोशल मीडिया पर भी काफी सक्रिय रहती हैं और वह अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर रील्स बनाकर अपलोड करती रहती हैं।

भले ही दीपिका सिंह पर्दे पर बहुत कम नजर आती हैं परंतु इसके बावजूद भी आज उनकी लोकप्रियता में कोई भी कमी नहीं आई है। लेकिन अभिनेत्री ने आज जो मुकाम हासिल किया है, उनके लिए यह बिल्कुल भी आसान नहीं था। वह अपनी निजी जिंदगी में ऐसी-ऐसी मुश्किलों से गुजरी कि आज उनको याद करके अभिनेत्री की आंखें नम हो जाती हैं। अब दीपिका सिंह ने यह बताया है कि उन्हें एक एक्ट्रेस बनने के लिए किस चीज ने सबसे ज्यादा अट्रैक्ट किया था।

बचपन के दिनों को याद कर दीपिका सिंह का छलका दर्द

दीपिका सिंह ने अपने लेटेस्ट इंटरव्यू में अपने दिल का दर्द बयां किया है। अभिनेत्री ने यह बताया है कि वह दिल्ली में एक ज्वॉइन्ट फैमिली में रहकर बड़ी हुई हैं। दीपिका सिंह बताती हैं कि उनके चार भाई बहन हैं। सबसे बड़ी वही हैं। उनका बचपन काफी अच्छा रहा लेकिन उस दौरान उन्होंने काफी उतार-चढ़ाव भी देखा। दीपिका सिंह बताती हैं कि जब वह बड़ी हो रही थीं, तब उन्होंने कई फाइनेंशियल क्राइसिस देखे हैं।

दीपिका सिंह ने अपने पुराने इंसीडेंट को याद करते हुए कहा कि उनके स्कूल बस की फीस समय पर जमा नहीं हो पाई थी, जिसकी वजह से उन्हें और उनकी बहन को स्कूल से वापस घर भेज दिया गया था। दीपिका सिंह ने पिंकविला को दिए इंटरव्यू में यह बताया कि “स्कूल के बाद में पापा की फैक्ट्री जाती थी, क्योंकि स्कूल बस पहाड़गंज नहीं जाती थी। आठवीं क्लास तक मैंने एयरफोर्स स्कूल में पढ़ाई की। इसके बाद मैंने सरकारी स्कूल में एडमिशन ले लिया था।”

दीपिका सिंह ने बताया “मैं खुद प्रिंसिपल के पास गई। अपनी मार्क शीट्स दिखा कर खुद से ही सरकारी स्कूल में एडमिशन ले लिया था, क्योंकि मेरे पिता नहीं चाहते थे कि मैं अपना पुराना स्कूल छोड़ू।” एक्ट्रेस ने बताया कि “लेकिन मैं देख और समझ रही थी कि फाइनेंशियल क्राइसिस की वजह से स्कूल बस की फीस जमा नहीं हो पा रही है। एयरफोर्स स्कूल में मेरे प्रिंसिपल ने मुझसे कहा था- अगर आपके बस की नहीं है, तो इतने बड़े स्कूल में क्यों आती हो। इसके बाद मैंने सोच लिया था मैं लाइफ में इतना बड़ा कुछ करूंगी कि इस स्कूल को बाद में अपने किए पर पछतावा होगा।”

उतार-चढ़ाव भरा रहा दीपिका का बचपन

दीपिका बोलीं “मैंने अपनी जिंदगी में कई उतार-चढ़ाव देखे हैं, जिन्होंने मुझे मजबूत बनाया है। मेरे पिता एम्ब्रॉयडी की फैक्ट्री थी, लेकिन वो नुकसान में जा रही थी। मेरे पिता के ऊपर कई सारे लोन्स थे। वे बैंकरप्ट हो गए थे। लेकिन उन्होंने 2-3 सालों तक काफी कोशिश की, उसके बाद उनका एक्सीडेंट हो गया और फिर उन्हें एक साल तक बेड रेस्ट पर रहना पड़ा। हमें घर में परिवार के साथ रहकर इस परेशानी का कभी एहसास नहीं हुआ,

लेकिन जब स्कूल की फीस जमा नहीं होती थी, तब इसका एहसास होता था। मैं इतनी बड़ी थी कि हर चीज को समझ पाती थी। हमें लोगों के ताने सुनने को मिलते थे। स्कूल वालों ने हमारे बैग्स रख लिए थे और खाली हाथ मुझे और मेरी बहन को घर भेज दिया था, उस वक्त एहसास हुआ कि वक्त बदल चुका है।”

2011 में दीपिका सिंह ने शुरू किया था करियर

आपको बता दें कि दीपिका सिंह ने अपने करियर की शुरुआत साल 2011 में टीवी धारावाहिक “दीया और बाती हम” से की थी, फिर मई 2014 में उन्होंने इसी शो के डायरेक्टर रोहित राज गोयल से विवाह कर लिया था। साल 2017 में इनके घर बेटे का जन्म हुआ, जिसका नाम इन्होंने सोहम गोयल रखा।

Related Articles

Back to top button