विशेष

पापा से अफसर बनने का वादा बिटिया ने किया पूरा, 22 साल की उम्र में IAS बनीं सुलोचना मीणा

हर कोई आईएएस बनना चाहता है लेकिन यह सपना बहुत ही कम लोगों का पूरा होता है। अगर आप आईएएस अधिकारी बनना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको बहुत अधिक मेहनत करनी होगी। बिना मेहनत किए आज तक कोई भी व्यक्ति किसी भी चीज में सफल नहीं हो पाया है। बहुत से लोग ऐसे होते हैं, जो आईएएस बनने का सपना पूरा करने के लिए दिन रात कड़ी मेहनत करते हैं।

संघ लोक सेवा आयोग की यूपीएससी परीक्षा की तैयारी काफी कठिन मानी जाती है। इस परीक्षा की तैयारी हर साल लाखों लोग करते हैं परंतु सभी को कामयाबी नहीं मिल पाती है। इनमें से कुछ ही लोग होते हैं, जिन्हें सफलता प्राप्त हो पाती है। वहीं जिन्हें सफलता नहीं मिलती वह इस परीक्षा की तैयारी दोबारा से करते हैं। लेकिन कुछ लोग निराश होकर तैयारी बीच में ही छोड़ देते हैं।

बता दें कि यूपीएससी परीक्षा क्वालीफाई करना और आईपीएस अधिकारी की ट्रेनिंग पूरी करना दोनों ही कोई साधारण काम नहीं है। आज हम आपको एक ऐसी महिला अधिकारी की कहानी बताने वाले हैं, जिन्होंने महज 22 वर्ष की आयु में ही यूपीएससी की परीक्षा पास कर ली थी और अधिकारी बन गईं। इसके साथ ही उन्होंने अपने पापा से अफसर बिटिया बनाने का वादा भी किया था, जिसे उन्होंने पूरा कर दिखाया।

IAS बनीं सुलोचना मीणा

दरअसल, आज हम आपको जिस महिला अधिकारी के बारे में बता रहे हैं उनका नाम आईएएस सुलोचना मीणा (IAS Sulochana Meena) है, जिन्होंने महज 22 साल की उम्र में यूपीएससी की परीक्षा पास कर अधिकारी बनी थीं। राजस्थान के सवाई माधोपुर के आदलवाडा (Adalwara Kalan, Sawai Madhopur, Rajasthan) गांव की रहने वाली सुलोचना मीणा के पिताजी का नाम रामकेश मीणा है, जो रेलवे ने अधिकारी हैं और उनकी माताजी गृहणी हैं।

सुलोचना मीणा दो बहनें हैं। सभी बहनों में सुलोचना सबसे बड़ी हैं। वह अपने कॉलेज के दिनों में नेशनल सर्विस स्कीम यानी एनएसएस (NSS) की एक्टिव मेंबर भी रही हैं। आईएएस अधिकारी सुलोचना मीणा की पढ़ाई दिल्ली यूनिवर्सिटी से हुई है। उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी के मिरांडा हाउस कॉलेज से बॉटनी में ग्रेजुएशन किया हुआ है। आईएएस सुलोचना मीणा ऐसा मानती हैं, कि सफलता के लिए सेल्फ स्टडी बेस्ट है। उन्होंने इस बात का जिक्र अपने इंस्टाग्राम पर अपनी एक पोस्ट के कैप्शन में भी किया हुआ है।

पिता से वादा किया था कि वह उनकी अफसर बिटिया बनकर दिखाएंगी

जब सुलोचना मीणा अपनी कॉलेज की पढ़ाई कर रही थीं, तो इसके साथ-साथ उन्होंने वह यूपीएससी परीक्षा की तैयारी में भी जुट गई थीं। वह उन भाग्यशाली कैंडिडेट्स में से एक हैं, जिन्होंने अपने प्रथम प्रयास में ही महज 22 वर्ष की आयु में कामयाबी हासिल की। सुलोचना मीणा ने अपने पिताजी से यह वादा भी किया था कि वह उनकी अफसर बिटिया बनकर दिखाएंगी। उन्होंने आईएएस अधिकारी बनकर उसी सपने को पूरा भी किया।

जब यूपीएससी परीक्षा 2021 का परिणाम आया था, तो सुलोचना मीणा और उनके परिजनों का जोरदार तरीके से सम्मान किया गया था। सुलोचना मीणा ने ऑल इंडिया लेवल पर 415वीं तथा एसटी कैटेगरी में 6वीं रैंक प्राप्त की।

सुलोचना मीणा ने अपने प्रयास में एसटी वर्ग में छठा स्थान प्राप्त कर सभी के लिए एक मिसाल कायम की है। अब तक 22 वर्ष की आयु में चयनित होने वाले जिले के लोगों में महिला वर्ग के तहत सुलोचना मीणा पहली अभ्यर्थी हैं।

Related Articles

Back to top button