कोरोना काल में बच्चे पैदा करने के होते हैं गजब के फायदें, हर मां को इन्हें जानना चाहिए

कोरोना महामारी जब शुरू हुई थी तो गर्भवती महिलाओं के मन में काफी डर था। उन्हें ये चिंता खाए जा रही थी कि कोरोना काल में बच्चे के पैदा होने पर कई तरह कि दिक्कतें आ सकती हैं। ऐसे में कई महिलाएं तो इस दौर में बच्चों की प्लानिंग भी नहीं कर रही हैं। हालांकि अब इसे लेकर पैदा होने वाली गलतफहमियां भी दूर हो रही है। इस बात में कोई शक नहीं कि कोरोना के दौर में डिलीवरी होने पर कुछ दिक्कतों का सामना करना पड़ता है लेकिन यदि पूर्ण सावधानी बरती जाए तो ये चीज आसानी से हो जाती है।

अर्बन डिक्शनरी डॉट कॉम की एक रिपोर्ट के अनुसार 2020 में कोरोना आने के बावजूद बच्चों के पैदा होने की दर में काफी बढ़ोत्तरी हुई है। इस कोरोना महामारी के दौर में पैदा होने वाले बच्चों को कोरोनियल कहा जा रहा है। कोरोनियल जनरेशन के बच्चे दिसंबर 2020 से पैदा हो रहे हैं जो कि आने वाले साल 2021 की वसंत ऋतु आने तक पैदा होते रहेंगे। ऐसे में कई हेल्थ एक्सपर्ट का मानना है कि कोरोना के दौर में पैदा हुए बच्चों के कुछ लाभ भी हैं।

कोरोना काल में बच्चा पैदा होने के फायदें

– कोरोना काल में अधिकतर लोग घर से ही काम कर रहे हैं। ऐसे में यदि आप इस दौर में बच्चा पैदा करती हैं तो उसके पास 24 घंटे रह सकती हैं। इसके अलावा डिलीवरी के बाद आप अपना वर्क भी जल्दी ज्वाइन कर सकती हैं। बच्चे के लिए आपको ऑफिस से लंबी छुट्टी नहीं लेनी पड़ती है। कुल मिलाकर इस दौर में आप नवजात की देखरेख के लिए ज्यादा टाइम दे सकती हैं।

– कोरोना काल में बहुत से पुरुष भी वर्क फ्रॉम होम भी कर रहे हैं। ऐसे में गर्भावस्था के दौरान और डिलीवरी के बाद महिलाओं को अपने पार्टनर की हेल्प भी मिल जाती है। वहीं जब बच्चे के माता पिता साथ मिलकर उसकी परवरिश करते हैं तो बच्चे का विकास भी अच्छा होता है। वह अपने माता और पिता दोनों के करीब हो जाता है।

– कोरोना के दौर में घर में मेहमान भी नहीं आते हैं। वरना सामान्य दिनों में बच्चा पैदा होते ही ढेर सारे मेहमान उसे देखने आ जाते हैं। ऐसे में महिलाओं को सबका स्वागत करने और नवजात को संभालने में बड़ी दिक्कत होती है। हालांकि कोरोना के दौर में आप पूरा ध्यान बच्चे की परवरिश पर लगा सकती हैं। आपका दिमाग इस दौरान शांत रहता है।

इन फ़ायदों को पढ़ने के बाद क्या आप भी इस दौर में बच्चा पैदा करना पसंद करेंगे?

ये भी पढ़ें- जाया किशोरी एक कथा करने के लिए लेती हैं इतने रुपये, बताया कैसे बनते हैं कथावाचक

SHARE