जान देने से पहले DIG की पत्नी ने किया था फोन, कहा था-तुम्हें जिंदगी मुबारक हो, मैं जा रही हूं

डीआईजी चंद्रप्रकाश की पत्नी पुष्पा प्रकाश ने शनिवार को खुदकुशी कर ली थी। बताया जा रहा है कि डीआईजी चंद्रप्रकाश जैसे ही घर से निकले थे। उसके तुरंत बाद पुष्पा प्रकाश ने खुद को फांसी लगाई थी। खबरों के अनुसार 36 साल की पुष्पा प्रकाश ने फांसी लगाने से पहले अपनी पति को फोन भी किया था और उनसे कहा था कि ‘आपको आपकी जिंदगी मुबारक हो, मैं जा रही हूं।’ अपनी पत्नी की ये बात सुनते ही डीआईजी चंद्रप्रकाश वापस से अपने घर लौटे, लेकिन जब तक वो घर पहुंचे उनकी पत्नी की मौत हो चुकी थी।

डीआईजी चंद्रप्रकाश लखनऊ की सुशांत गोल्फ सिटी में अपने परिवार के साथ रहते है। इनके परिवार में पत्नी पुष्पा प्रकाश के अलावा 13 साल की बेटी अनन्या, 12 वर्षीय कृतिका और सात साल का बेटा दिव्यांश हैं। पुष्पा मूलरूप से आजमगढ़ की रहने वाली थीं और इनका भाई हापुड़ में एसडीएम है। पुष्पा के तीनों बच्चे जीडी गोयनका स्कूल में पढ़ते हैं।

पुलिस के अनुसार शनिवार सुबह डीआईजी चंद्रप्रकाश काम से घर से निकले थे। कुछ देर बाद पुष्पा ने उन्हें कॉल कर कहा कि आपकी जिंदगी आपको मुबारक। मैं जा रही हूं। इसके बाद फोन काट दिया। चंद्रप्रकाश ने पुष्पा के नंबर पर कॉल किया। लेकिन पुष्पा ने फोन नहीं उठाया। जिसके बाद वो घर लौट गए।

घर पर मौजूद थे बच्चे

पुलिस के मुताबिक घर पर बच्चे और नौकर भी मौजूद थे और पुष्पा ने पहली मंजिल पर स्थित कमरे में जाकर फांसी लगाई थी। पुष्पा ने दरवाजे को अंदर से बंद कर लिया था। वहीं दरवाजा खटखटाने पर प्रतिक्रिया नहीं मिली तो डीआईजी ने दरवाजे को तोड़ दिया। जिसके बाद अंदर उन्होंने अपनी पत्नी का शव लटका हुआ दिखा। डीआईजी चंद्रप्रकाश तुरंत पुष्पा को लोहिया अस्पताल ले गए। जहां पर डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

घटना की सूचना मिलते ही लोहिया अस्पताल और डीआईजी के घर कई सारे आईपीएस और पीपीएस अधिकारियों भी आए। हालांकि अभी तक आत्महत्या की वजह का पता नहीं चल सका है और पुलिस पूरे मामले की छानबीन कर रही है।

SHARE