सोनू सूद के मदद पर लोगों ने उठाया सवाल कहा ‘सदी का सब से बड़ा धोखा किया जा रहा है’

कोरोना महामारी और लॉकडाउन के दौरान बॉलीवुड  एक्टर सोनू सूद प्रवासी मजदूरों और गरीबों की मदद करते हुए नजर आए। हाल यह था कि लोग सरकार की जगह सोनू सूद से मदद मांगने लगे थे। उन्हे इसके लिए पूरे देश से सराहना मिली। हालांकि  कुछ लोगों का यह भी कहना था कि सरकारी मदद के बिना यह सारे काम संभव नहीं हो पाते। हाल ही में सोनू सूद ने एक व्यक्ति की मदद करने को लेकर ट्वीट किया है।

इस ट्वीट के बाद उन्हे जमकर ट्रोल किया जा रहा है। लोगों का कहना है कि यह सब कुछ केवल एक पब्लिसिटी स्टंट है। लोगों की नजर में अपनी अच्छी इमेज बनाने के लिए उनकी पीआर टीम उनसे यह सब करवा रही है। लोगों का तो यह भी कहना है कि जिन लोगों की मदद करने की बात की जा रही है वह सारे फेक अकाउंट है।

हार्ट सर्जरी के लिए मांगी थी मदद


बता दें कि स्नेहल नाम की टि्वटर यूजर ने सोनू सूद से अपने बेटे की हार्ट सर्जरी के लिए मदद मांगी थी। स्नेहल ने ट्वीट करते हुए लिखा था कि, उनका बेटा पल्मनरी स्टेनोसिस से प्रभावित है। इसके साथ ही उनके बेटे की बॉडी में ऑक्सीजन लेवल भी कम हो गया है। इस वजह से डॉक्टर्स ने उन्हें जल्द से जल्द ओपन हार्ट सर्जरी करवाने की सलाह दी है।

स्नेहल ने सोनू सूद से कहां कि उनके इस मुश्किल समय में वह उनकी मदद करें। स्नेहल के ट्वीट का रिप्लाई करते हुए सोनू सूद ने रविवार को ट्वीट किया कि, ” कल आपका बेटा मुंबई के एसआरसीसी अस्पताल में भर्ती हो जाएगा। एक हफ्ते में सर्जरी की तारीख आ जाएगी।”


मदद पर उठाए जा रहे हैं सवाल

सोनू सूद के इस ट्वीट के बाद कई यूजर्स इस पर सवाल उठा रहे हैं। उनका कहना है कि मदद मांगने वाले ने उन्हें टैग तक नहीं किया था। फिर उन्हें इसके बारे में कैसे पता चला। एक यूजर ने ट्वीट करते हुए लिखा कि, “नया ट्विटर अकाउंट, 2-3 फॉलोवर, एक ट्वीट, सोनू सूद को टैग भी नहीं किया, लोकेशन भी नहीं है, ना ही कोई कॉन्टैक्ट डिटेल्स, ना ईमेल अड्रेस फिर भी सोनू सूद ने ट्वीट ढूंढ लिया और मदद ऑफर कर दी।


“यूजर्स का कहना है कि सोनू सूद फेक लोगों की मदद कर रहे हैं और ये सब उनकी पीआर टीम का काम है। सोनू सूद की टीम पहले तो मदद के लिए एक फेक अकाउंट क्रिएट करती है, फिर वो सोनू से ट्वीट के जरिए हेल्प मांगती है और सोनू ट्वीट पर रिप्लाई कर मदद करने का ढोंग करते हैं। लोगों का मानना है कि, जिन लोगों ने इससे पहले मदद मांगी है। उनमें से अधिकतर लोगों ने ट्वीट डिलीट कर दिए हैं। पीआर टीम ऐसे काम करती है।

सोनू सूद ने पेश किए डाक्यूमेंट्स


ट्विटर पर ट्रोल किए जाने के बाद सोनू सूद ने रिप्लाई करते हुए कुछ डॉक्युमेंट्स पोस्ट किए। इनमें मरीज के नाम की अस्पताल रसीद भी थी। डॉक्युमेंट्स पोस्ट करते हुए सोनू ने लिखा, ‘यही तो बेस्ट पार्ट है भाई। वे एक जरूरतमंद को खोजते हैं और वे उन्हें। ये केवल मंशा पर निर्भर करता है लेकिन तुम ये नहीं समझोगे। कल मरीज एसआरसीसी अस्पताल में होगा। प्लीज थोड़ी मदद आप कर दीजिए और उसके लिए फ्रूट्स भेज दीजिए।


2-3 फॉलोवर्स वाला शख्स अधिक फॉलोवर्स वाले शख्स से प्यार पाकर खुश होगा। हालांकि इस ट्वीट के बाद वह फिर से निशाने पर आ गए। यूजर्स का कहना है कि स्नेहल ने 20 अक्टूबर को मदद मांगी है और एक्सेल शीट में 25 सितंबर की तारीख हैं। एक यूजर ने तो यह भी कहा यह 2020 का सबसे बड़ा धोखा है। 

SHARE