कोरोना नहीं बल्कि इस बीमारी ने मचा रखा है लखनऊ में आतंक, प्रशासन के लिए बनीं बड़ी मुसीबत

कोरोना वायरस पूरे भारत में अच्छे से फैल गया है और रोजाना 50 हजार से अधिक कोरोना के केस सामने आ रहे हैं। कोरोना वायरस के कारण कई समय के लिए देश में लॉकडाउन भी लगाया गया था। साथ में लोगों को सामाजिक दूरी बनाए रखने को कहा गया है। हालांकि कोरोना वायरस के अलावा इस समय डेंगू भी काफी बुरी तरह से फैल रहा है और देश के कई राज्यों से डेंगू के रोजाना हजारों केस सामने आ रहे है। डेंगू के कारण तो उत्तर प्रदेश सरकार ने घरों को कंटेनमेंट जोन में तब्दील करने का फैसला भी लिया है।

दरअसल उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में इन दिनों कोरोना के साथ-साथ डेंगू के भी काफी मामले बढ़ रहे हैं। डेंगू के बढ़ते मामलों से लखनऊ प्रशासन की मुश्किलें काफी बढ़ गई हैं। डेंगू को खत्म करने के लिए लखनऊ प्रशासन ने अब कोरोना मरीजों की तरह डेंगू के मरीजों के घरों को कंटेनमेंट जोन में तब्दील करना का फैसला किया है।

डेंगू मरीजों के घरों को कंटेनमेंट जोन करके प्रशासन आसपास पनप रहे लार्वा को खत्म करने की कोशिश करेगा। ताकि डेंगू ओर ना फैसल सके। प्रशासन की ओर से घरों के आसपास और नालियों में पनप रहे डेंगू के लार्वा को पूरी तरह नष्ट किया जाएगा और प्रशासन इसके लिए बकायदा अभियान भी चला रहा है। कई सारी टीमें बनाई गई हैं जिन्हें लार्वा नष्ट करने का काम दिया गया है।

गोमती नगर, इंदिरा नगर और अलीगंज इलाके से डेंगू के काफी केस आ रहे हैं। जिसके कारण यहां पर एंटी लार्वा का छिड़काव और फॉगिंग कराई जा रही। इस काम के लिए 77 टीमें लगाई गई है। प्रशासन ने शहर के सभी निजी पैथोलॉजी को भी आदेश दिए गए हैं कि किसी भी मरीज को डेंगू होने पर उन्हें सूचना दी जाए। ताकि उसके घर के आसपास से डेंगू के लार्वा को पूरी तरह नष्ट किया जा सके।

इन राज्य में भी बढ़ रहे हैं डेंगू के केस

उत्तर प्रदेश के अलावा दिल्ली, हरियाणा और पंजाब राज्य से भी डेंगू के काफी केस सामने आ रहे हैं। दरअसल इन राज्यों में इस समय ना ठंड है और ना गर्मी। और ऐसे ही मौसम में डेंगू के मच्छर पैदा होता है। जैसे-जैसे इन राज्यों में ठंड बढ़ने लग जाएगी डेंगू के ये मच्छर अपने आप ही मरने लग जाएंगे। लेकिन तब तक लोगों को सावधानी की काफी जरूत हैं।

SHARE