2 शादियों के बाद भी अकेली हैं श्वेता तिवारी, इन वजहों से शादीशुदा जिंदगी में हो रही है दिक्कतें

टीवी अभिनेत्री श्वेता तिवारी किसी पहचान की मोहताज नहीं हैं। टीवी पर कई सीरियल में उन्होंने ऐसी भूमिकाएं निभाई हैं, जिनमें उनका रिश्ता बेहद उतार-चढ़ाव भरा रहा है। ठीक उसी तरीके से असल जिंदगी में भी उनके रिश्ते इसी तरह के रहे हैं। वैवाहिक जीवन उनका ऐसा रहा है, जिसकी वजह से वे दो शादियां करने के बाद भी तन्हा जिंदगी जीने के लिए मजबूर हैं।

दो शादियां उन्होंने जरूर कीं, लेकिन उनकी दोनों ही शादी नहीं चल सकी और उन्हें अलग होना पड़ा। श्वेता तिवारी को देखकर एक बात आपके मन में जरूर आती होगी कि अपनी पसंद की शादी करने के बाद भी आखिर कई बार जिंदगी में अकेले जीने के लिए हम मजबूर क्यों हो जाते हैं।

किसी चीज को लेकर हमेशा लड़ना

शादीशुदा जिंदगी में मुद्दे तो बहुत से होते हैं, जिन्हें सुलझा पाना मुश्किल होता है, मगर ज्यादातर ऐसा होता है कि एक-दूसरे के दृष्टिकोण को आप समझ नहीं पाते और किसी एक मुद्दे को लेकर ही हमेशा एक-दूसरे से उलझते रहते हैं।

एक अध्ययन बताता है कि 69 फ़ीसदी मामले एक शादी में नहीं सुलझते। फिर भी एक ही मुद्दे को लेकर हमेशा लड़ते रहने से शादीशुदा जिंदगी पर इसका बड़ा ही प्रतिकूल असर पड़ता है। ऐसे में यह जरूरी है कि सावधानी बरतें और किसी एक मुद्दे पर ज्यादा जोर देकर अपने रिश्ते को प्रभावित न होने दें।

रुचि खत्म हो जाना

शादी कई बार कामयाब इसलिए भी नहीं हो पाती है कि रिश्ते में रुचि खत्म हो जाती है। अपने दोस्तों के साथ ही या फिर अपने सहकर्मियों के साथ पति-पत्नी ज्यादा वक्त बिताना शुरू कर देते हैं और एक-दूसरे के साथ अपनी बातों को शेयर करना बंद कर देते हैं। ऐसे में रिश्ता धीरे-धीरे टूट जाता है।

नहीं बिता पाते हैं साथ में वक्त

सोशल मीडिया है तो बहुत ही काम की चीज, लेकिन शादीशुदा जिंदगी में दरार डालने में भी इसकी बड़ी भूमिका रही है। अधिकतर शादीशुदा जोड़ों को देखा जाता है कि वे एक-दूसरे के साथ वक्त बिताने की बजाय सोशल मीडिया में इतनी ज्यादा दिलचस्पी लेने लगते हैं कि उनका खुद का रिश्ता इससे प्रभावित होने लगता है। एक-दूसरे को समय न दे पाने की वजह से उनका रिश्ता टूटने की कगार पर पहुंच जाता है।

बिना सोचे-समझे शादी कर लेना

शादीशुदा जिंदगी आसान नहीं होती। समस्याएं इसमें कई होती हैं, मगर इन समस्याओं को अवसरों में तब्दील किया जा सकता है, यदि पति-पत्नी एक-दूसरे को अच्छी तरीके से समझें और वक्त दें। कई बार ऐसा होता है कि शादी करने का फैसला बड़ी जल्दबाजी में ले लिया जाता है। यह फैसला शादीशुदा जिंदगी पर पूरी तरह से भारी पड़ जाता है। इस वजह से रिश्ता बर्बाद होने की कगार पर पहुंच जाता है।

इसलिए यह जरूरी है कि शादी करने का फैसला कभी भी जल्दबाजी में न लिया जाए और इस पर अच्छी तरीके से सोच-विचार पहले ही कर लिया जाए।

पढ़ें आदित्य नारायण लॉन्ग टर्म गर्लफ्रेंड श्वेता अग्रवाल से करने जा रहे हैं शादी, डेट और वेन्यू फाइनल

SHARE