गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल का 92 साल की उम्र में निधन, PM मोदी के थे बेहद ही करीब

गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल का निधन हो गया है। इनकी आयु 92 साल की थी। बताया जा रहा है कि इनका निधन कार्डियक अरेस्ट के कारण हुआ है। हालांकि सितंबर में इन्हें कोरोना वायरस भी हुआ था। वहीं गुरुवार सुबह सांस लेने में तकलीफ होने के बाद केशुभाई पटेल को अहमदाबाद के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां इन्होंने अंतिम सांस ली है।

केशुभाई पटेल के निधन पर हर किसी ने शौक जाहिर किया है। राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने केशुभाई पटेल के निधन पर शोक प्रकट करते हुए कहा है कि वे एक लोकप्रिय समाजसेवी व जननेता के साथ संवेदनशील व्यक्ति थे। ईश्चर उनकी आत्मा की चिरशांति प्रदान करें एवं उनके परिजनों को इस पीड़ा को सहने की शक्ति प्रदान करें।

केशुभाई पटेल ने साल 2014 में राजनीति से संन्यास ले लिया था और हाल ही में सोमनाथ मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष बनाए गए थे। केशुभाई पटेल के बाद मोदी जी गुजरात के मुख्यमंत्री बनें थे। केशुभाई दो बार गुजरात के मुख्यमंत्री चुने गए थे। लेकिन कभी भी इन्होंने अपना कार्यकाल पूरा नहीं किया। साल 2001 में इनकी जगह नरेंद्र मोदी को गुजरात का सीएम बनाया गया था। दरअसल साल 2001 में खराब स्वास्थ्य के चलते केशुभाई पटेल ने इस्तीफा दिया था।

केशुभाई पटेल ने अपने राजनीति करियर की शुरुआत 1960 के करीब की थी और ये जनसंघ संस्थापक सदस्यों में से एक थे। ये साल 1978 और 1995 के बीच कलावाड़, गोंडल और विशावादार से विधायक रहे थे। साल 1980 में इन्हें बीजेपी का आयोजक बनाया गया था। वहीं साल 1995 में गुजरात के विधानसभा चुनाव में बीजेपी को इनकी अगुवाई में जीत मिली थी। दरअसल इन्होंने बीजेपी की पकड़ गुजरात राज्य में मजबूत बनाने के लिए काफी मेहनत की थी।

पीएम मोदी इनके बेहद ही करीब थे और प्रधानमंत्री बनने पर मोदी ने कहा था कि सूबे की असल कमान केशुभाई के हाथ में ही है और इन्हें बीजेपी का रथ हांकने वाला सारथी करार दिया था।

SHARE