राजस्थान में फिर शुरू हुआ गुर्जर आरक्षण आंदोलन, मांगे मनवाने के लिए रेलवे ट्रैक किया जाम

एक बार फिर से देश में आरक्षण की मांग उठने लगी है और राजस्थान में गुर्जर आंदोलन शुरू कर दिया गया है। इस आंदोलन के तहत राजस्थान की रेल पटरियों पर लोग जमा हो गए हैं और ट्रैक को जाम कर दिया है। जिसकी वजह से दिल्ली से मुंबई, मुंबई से दिल्ली को ओर जाने वाली करीब आधा दर्जन से ज्यादा ट्रेनें प्रभावित हुई है।

बताया जा रहा है कि गुर्जर आरक्षण आंदोलनकारियों ने कोटा रेल मंडल के बयाना स्टेशन के पास फतेहसिंहपुरा- डुमरिया के पास दिल्ली मुंबई रेल मार्ग पर जमा किया है। इस रेल मार्ग पर कब्जा करने की वजह से हिंडौन सिटी-बयाना रेल मार्ग पर 7 ट्रेनों को डायवर्ट किया गया है। जिसके कारण रेल यात्रियों को परेशानी हो रही है।

कोटा रेल मंडल के वरिष्ठ वाणिज्य प्रबंधक अजय पाल ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि आंदोलन की वजह से  निजामुद्दीन कोटा, जनशताब्दी एक्सप्रेस को डायवर्ट किया गया है। दिल्ली से मुंबई की ओर जाने वाली राजधानी एक्सप्रेस को डाइवर्ट कर दी गई है और बांद्रा से गोरखपुर को जाने वाली अवध एक्सप्रेस का भी रूट बदला गया है। उदयपुर- निजामुद्दीन मेवाड़ एक्सप्रेस ,निजामुद्दीन उदयपुर मेवाड़ एक्सप्रेस भी ट्रैक के जाम होने से प्रभावित हो सकती हैं।

जवानों को किया गया तैनात

गुर्जर आरक्षण आंदोलन के कारण अन्य रेलवे ट्रैक को जाम ना किया जाए, इसके लिए कोटा रेल मंडल अलर्ट मोड ने जवानों की तैनाती कर दी है। आरपीएफ-जीआरपी के करीब 450 जवानों को रेलवे ट्रैक व स्टेशनों पर तैनात किया गया है।

इस आंदोलन को रोकने के लिए राजस्थान सरकार आंदोलनकारियों से बात भी कर रही है और उम्मीद है कि सरकार और आंदोलनकारियों के बीच बातचीत बन जाएगी। कहा जा रहा है कि राज्य की सरकार ने गुर्जर समाज की 14 मांगों को लेकर सहमति जता दी है। दरअसल गुर्जर नेताओं ने एक समझौता पत्र सरकार को दिया था। जिसके बाद तीन दौर की वार्ता की गई और 14 मांगों को पर सरकार सहमत हो गई है।

SHARE