बेड पर अपनी परफॉर्मेंस को लेकर चिंतित हैं तो पढ़ लें ये टिप्स, आपकी पार्टनर खुश हो जाएगी

एक सुखद शादीशुदा जीवन में जितनी अहमियत प्यार की होती है उतना ही जरूरी शारीरिक संबंध भी होता है। हर व्यक्ति की अपनी कुछ शारीरिक जरूरतें होती हैं। शारीरिक संबंध बनाते समय परफॉर्मेंस बहुत मायने रखती है। यही महिलाओं को चरम सुख तक पहुंचाती है। ऐसे में कई लोग सेक्स के दौरान अपनी परफॉर्मेंस को लेकर चिंतित रहते हैं। यह चिंता आपके विकार का कारण भी बन जाती है।

सेक्शुअल मेडिसीन रिव्यू में पब्लिश हुई एक रिसर्च के अनुसार 9 से 25 प्रतिशत पुरुष संबंध बनाने के दौरान स्तंभन दोष व शीघ्रपतन जैसी बातों को लेकर चिंता करते हैं। दूसरी तरफ 6 से 16 फीसदी महिलाएं यौन संबंध बनाने की इच्छा न होने से इस सुख का मजा कम कर देती हैं। ऐसे में आज हम आपको कुछ ऐसी टिप्स बताने जा रहे हैं जो आपको संबंध बनाते समय परफॉर्मेंस के बारे में सोचने की टेंशन नहीं देंगे।

1. यदि आप टेंशन में रहते हैं तो इसका असर आपकी सेक्स लाइफ पर भी पड़ता है। ये आपके नर्व सिस्टम को प्रभावित करता है जिसके चलते आपकी परफॉर्मेंस कमजोर हो जाती है। इसलिए यदि आप अपनी चिंता पर काबू पा लें तो परफॉर्मेंस अपने आप सुधार जाएगी।

2. कई बार इंटिमेट पलों के दौरान होने वाले तनाव का कारण मेडिकल से जुड़ा भी हो सकता है। गठिया, शुगर या एंडोमेट्रियोसिस से जुड़ी समस्याएं शारीरिक संबंध के दौरान चिंता पैदा करती हैं। ऐसे में अपना मेडिकल चेकअप करवा इलाज लेना बेहतर विकल्प होता है।

3. कई बार लोग अपने शरीर की बनावट को लेकर खुद को कमजोर समझने लगते हैं। उन्हें अपने प्रदर्शन पर ही शर्म आने लगती है। आपको आत्मविश्वास से भरपूर रहना चाहिए। जैसे हैं उसे स्वीकार करें। याद रखें साइज़ से ज्यादा परफॉर्मेंस महत्व रखती है।

4. भारत में सेक्स एजुकेशन भी न के बराबर मिलती है। ऐसे में लोगों को संबंध बनाने के सही तरीके के बारे में पता नहीं होता है। ऐसे में आप किसी एक्सपर्ट से इस विषय में पूर्ण जानकारी लें। चाहे तो डॉक्टर से भी मिल सकते हैं।

5. कुछ मामलों में पार्टनर से अच्छे से नहीं बनना, या शर्म करना भी परफॉर्मेंस में गिरावट ला देता है। इसलिए आप अपने पार्टनर से इस बारे में बात करें। उन्हें क्या पसंद है और किस स्टाइल में पसंद है यह जान लें। एक दूसरे पर भरोसा रहेगा तो परफॉर्मेंस अपने आप बढ़ जाएगी।

6. संबंध बनाने से पहले खाने में तेल या वसायुक्त भोजन शामिल न करें। इसके अलावा प्रदरक्षण सुधारने के लिए योग तथा ध्यान का सहारा लें।

SHARE