समाचार

दिल्लीवासी हो जाएं सावधान, दिवाली पर एक पटाखा फोड़ने पर हो सकती है 6 साल की सजा

दिल्ली में पटाखे फोड़ने पर बैन लगा दिया गया है और दिवाली के दिन अगर कोई पटाखे फोड़ते हुए नजर आया, तो उसे जेल भेज दिया जाएगा। इतना ही नहीं उसके खिलाफ दिल्ली सरकार एयर एक्ट के तहत कार्रवाई भी करेगी। दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण के कारण ये फैसला लिया गया है और इस साल भी पटाखों पर बैन लगाया गया है।

6 साल की होगी सजा

अगर कोई व्यक्ति दिल्ली में पटाखे फोड़ते हुए मिला तो उसे 6 साल तक की सजा सुनाई जा सकती है। एयर एक्ट (Air Act) के तहत ही दिल्ली पुलिस आरोपी के खिलाफ केस दर्ज करेगी। साथ में ही उसे जुर्माना भी भरना होगा। वहीं मजिस्ट्रेट के पास ये अधिकार होगा कि वो आर्थिक दण्ड देने के साथ-साथ दोषी को कम से कम डेढ़ साल और अधिक से अधिक 6 साल तक की सजा दे सकता है। दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण पर पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने एक बैठक भी की थी। जिसमेें पुलिस अधिकारियों, नगर निगम, परिवहन विभाग और जिला अधिकारी मौजूद थे और इस बैठक के दौरान ही ये फैसला लिया गया है।

गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ही दिल्ली सरकार ने दिल्ली में पटाखे बैन कर दिए थे। पटाखों पर ये बैन 7 नवंबर से लेकर 30 नवंबर तक लगाया गया। 14 नवंबर को दिवाली का त्योहार है। यानी दिवाली पर दिल्ली वासी पटाखे नहीं फोड़ सकेंगे। वहीं सोमवार को नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने भी 30 नवंबर तक के लिए पटाखे फोड़ने पर बैन लगाया है। एनजीटी ने अपने इस फैसले में कहा कि दिल्ली-एनसीआर ही नहीं देशभर के किसी भी शहर में पटाखे सुप्रीम कोर्ट की गाइड लाइंस के अनुसार ही फोड़े जा सकते हैं।

दिल्ली सरकार के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने दिल्ली के लोगों से निवेदन की और कहा कि ये बात सिर्फ जुर्माने की नहीं है, बल्कि दिल्ली के लोगों की जिंदगी की है। गोपाल राय ने कहा कि हमने रेड लाइट ऑन, गाड़ी ऑफ अभियान चला रखा है। इस अभियान में हम मोटरसाइकिल, टैक्सियों को भी नियंत्रित कर रहे हैं। वाहन प्रदूषण को कम करने के लिए सरकार पहले ही काम कर रही है। इसके अलावा प्रदूषण के और भी जो स्त्रोत हैं, उनको भी कम करने के लिए हम काम कर रहे हैं।’

ये पहला मौका नहीं है जब दिल्ली में दिवाली के समय पर पटाखे बैन किए गए हैं। कई सालों से दिल्ली में दिवाली के अवसर पर पटाखे फोड़ने पर प्रतिबंध लगा दिया जाता है। ताकि राजधानी में प्रदूषण ना बढ़ सके।

Related Articles

Back to top button