स्वास्थ्य

अगर आपको भी पीरियड्स से पहले होता तेज़ दर्द तो हो जाएं सावधान, हो सकती है ये बीमारी

महिलाओं को महावारी के दौरान पेट में तेज दर्द, ऐंठन और सिरदर्द की समस्या होना आम बात है। मगर कुछ महिलाओं को पीरियड्स शुरू होने से 2 दिन पहले ही ये सारी समस्याएं शुरू हो जाती हैं। डॉक्टर्स कहते हैं कि पीरियड्स से पहले ही इन समस्याओं का शुरू हो जाना, अच्छे संकेत नहीं हैं।

दर्द से भरे पीरियड्स को डिसमेनोरियल कहते हैं, मगर 90 प्रतिशत महिलाओं को यूट्रस में ऐंठन की वजह से ये समस्या होती है।

जानिए पीरियड्स में क्यों होता है तेज दर्द?

दरअसल यूट्रेस जब मसल्स को संकुचित करने की प्रक्रिया शुरू करता है तो प्रोस्टाग्लैंडीन हार्मोन रिलीज करता है। इस दौरान यूट्रेस से थक्के भी बाहर निकलने लगते हैं और असहनीय दर्द शुरू हो जाता है। हालांकि कई बार इसका कारण फाइब्रॉएड और एंडोमेट्रियोसिस भी हो सकता है।

पीरिड्स से पहले क्यों होता है दर्द?

ज्यादातर लड़कियों के मन में ये शंका रहती है कि उन्हें पीरियड्स से पहले क्यों दर्द होता है। वहीं कुछ लड़कियां इसे प्री पीरियड्स पेन समझकर इग्नोर कर देती है। मगर ये आपके लिए नुकसानदेह हो सकता है। बता दें कि पीरियड्स से पहले दर्द होने के कुछ दूसरे कारण भी हो सकते हैं…

  • अक्सर 20 साल से कम उम्र की लड़कियों को पीरियड्स से पहले दर्द होता है।
  • अगर आपके परिवार में पहले भी महिलाओं को दर्दनाक पीरियड्स होते रहे हैं, तो ये भी आपके पीरियड्स में दर्द का कारण बन सकता है।
  • अगर आप ज्यादा स्मोकिंग करते हैं तो पीरियड्स से पहले आपको तेज दर्द से जूझना पड़ सकता है।
  • पीरियड्स के दौरान हैवी ब्लीडिंग और अनियमित पीरियड्स भी पीरियड्स से पहले दर्द का एक कारण है।
  • कंसीव न कर पाना।
  • 11 साल की उम्र में प्यूबर्टी का न होना।

इस वजह से भी होता है पीरयड्स से पहले तेज दर्द

प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (PMS)

प्रीमेंस्टुअल सिंड्रोम एक सामान्य स्थिति है, इसमें पीरियड्स से ठीक 1 या 2 दिन पहले शरीर के हार्मोन्स तेजी से बदलने लगते हैं और महिलाओं को तेज दर्द का सामना करना पड़ता है।

एंडोमेट्रियोसिस

एंडोमेट्रियोसिस के कारण यूट्रेस से सेल्स शरीर के दूसरे हिस्सों में जाने लगते हैं और पीरियड्स से पहले तेज दर्द का सामना करना पड़ता है।

यूट्रस में फाइब्रॉएड

अगर किसी महिला के गर्भाशय में ट्यूमर हो तो ये भी तेज दर्द और असमान पीरियड्स का एक कारण है। ऐसी स्थिति में आपको चिकित्सकीय सलाह जरूर लेनी चाहिए।

जानिए क्या है दर्द का इलाज..

अगर आप भी पीरियड्स से पहले असहनीय दर्द का सामना करते हैं, तो डॉक्टर से जरूर मिलें और उनकी सलाह से दर्द को कम करने के लिए  पेन किलर ले सकते हैं। इसके अलावा घरेलू नुस्खों की बात करें तो पीठ में हीटिंग पैड रखकर भी पीरियड्स के दर्द को कम किया जा सकता है।

सरसों के तेल को गुनगुना गर्म कर लें और इससे पेल्विक एरिया या पेट की मालिश करें। इसके अलावा गर्म पानी से स्नान करने से भी पीरियड्स के दर्द से राहत मिलती है।

अगर आप लगातार असहनीय पीरियड्स के दर्द से जूझते हैं तो नियमित एक्सरसाइज करें और हैल्दी डाइट लें, इससे दर्द कम किया जा सकता है।

डॉक्टर से कब मिलें?

  • अगर आईयूडी प्लेसमेंट के बाद भी लगातार दर्द हो तो डॉक्टर से जरूर मिलना चाहिए।
  • हर पीरियड्स से 3 दिन पहले असहनीय दर्द हो तो इसे नजरअंदाज न करें, बल्कि अपने डॉक्टर से जरूर मिलें।
  • अगर आपको पीरियड्स के दौरान ब्लड कलॉट्स आते हैं तो ये सामान्य बात नहीं है, ऐसे में आपको डॉक्टर से जरूर मिलना चाहिए।
  • पीरियड्स के दर्द के साथ दस्त और मतली की समस्या होने पर भी चिकित्सकीय सलाह जरूर लेना चाहिए।

तेज दर्द बन सकता है इनफर्टिलिटी का कारण

कई महिलाओं को पीरियड्स से पहले पेल्विक एरिया में तेज दर्द की शिकायत होती है। दरअसल ये इंफेक्शन का संकेत होता है। ऐसे में आपको गायनोलॉजिस्ट से जरूर मिलना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि अगर समय रहते इसका इलाज नहीं किया गया तो ये इनफर्टिलिटी का कारण बनता है।

Related Articles

Back to top button