समाचार

इस खूबसूरत महिला की तलाश में 5 महीनों से लगी है यूपी पुलिस, लगे हैं ये संगीन आरोप

काफी महीनों से यूपी पुलिस अस्मिता नामक महिला की तलाश में लगी हुई है। लेकिन अभी तक पुलिस को कोई भी कमायाबी नहीं मिल सकी है। आगरा के फतेहाबाद क्षेत्र में लखनऊ एक्सप्रेसवे पर पकड़े गए कोख के सौदागर गिरोह की सरगना अस्मिता की तलाश में पुलिस पांच महीनों से लगी है। लेकिन ये शातिर महिला अभी तक पुलिस की पहुंच से बाहर है।

अस्मिता पर बच्चों का सौंदा करने का आरोप है और इस मामले में यूपी पुलिस ने कई सारे लोगों को गिरफ्तार किया है। लेकिन अभी तक गिरोह की सरगना अस्मिता फरार ही चल रही है। माना जा रहा है कि अस्मिता इस समय नेपाल में है और पुलिस बिना मंजूरी के नेपाल नहीं जा सकती है। इस मामले के बारे में जानकारी देते हुए क्षेत्राधिकारी (सीओ) फतेहाबाद का कहना है कि उच्चाधिकारियों से अनुमति लेने के बाद टीम को नेपाल भेजा जाएगा।

क्या है पूरा मामला

थाना फतेहाबाद में 19 जून को लखनऊ एक्सप्रेसवे पर पुलिस ने दो गाड़ियों को रोका था। इन गाड़ियों में सवार पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया था। इनके पास से तीन बच्चियां भी मिली थीं। इन बच्चियों को नेपाल ले जाया जा रहा था। पुलिस ने पकड़े गए आरोपियों से पूछताछ की तो पता चला की ये लोग बच्चों की खरीद फरोख्त करते हैं। इन सभी पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर इन्हें जेल भेजा दी।

पूछताछ में फरीदाबाद की रहने वाली आरोपी नीलम ने नेपाल की अस्मिता का नाम लिया और पुलिस को बताया कि वो ही इस गैंग को चला रही है। अस्मिता ही बच्चों का सौदा करती है। आरोपियों से की गई पूछताछ के आधार पर आगरा पुलिस ने दिल्ली से आनंद राहुल सारस्वत को पकड़ा था। जिसने नोएडा के डॉ. विष्णुकांत का नाम बताया था। पुलिस ने डॉ. विष्णुकांत को बंगलूरू से गिरफ्तार किया था। कुल नौ आरोपियों को जेल भेजने के बाद पुलिस ने चार्जशीट लगा दी। लेकिन अस्मिता का कुछ भी पता नहीं चल सका है।

पुलिस अस्मिता की तलाश में नेपाल जाना चाहती और पुलिस को बस मंजूरी का इंतजार है। हालांकि पुलिस को अभी तक अस्मिता के बारे में अधिक जानकारी नहीं मिल सकी है और पुलिस को ये भी नहीं पता है कि अस्मिता नेपाल में कहां रहती है? उसका अस्पताल किस नाम से है? सीओ फतेहाबाद बीएस वीर कुमार ने बताया कि आरोपियों पर गैंगस्टर की कार्रवाई की जा चुकी है। नेपाल की अस्मिता के बारे में पता लगाया जा रहा है। अभी टीम नहीं जा पाई है। उच्चाधिकारियों से अनुमति ली जाएगी। इसके बाद टीम को नेपाल भेजा जाएगा।

कमाए खूब पैसे

कोख के सौदागर गैंग के मास्टर माइंड डॉ. विष्णुकांत ने पुलिस को पूछताछ में बताया कि वर्ष 2016 से भारत में सेरोगेसी पर रोक है। इस कारण वो विदेश में सेरोगेसी के लिए जा रहा था। वो सेरोगेसी के लिए नेपाल के अलावा केन्या, रवांडा भी जाता था। इन देशों में सेरोगेसी पर कोई रोक नहीं है। वो चार साल में सौ से ज्यादा बार विदेश गया था। इससे उसकी अच्छी कमाई हुई है। विष्णुकांत ने काफी पैसा कमाया है। नोएडा में फ्लैट खरीदा था। इसके अलावा कर्नाटक में भी संपत्ति है। ऐसे में पुलिस उसके बैंक खातों को भी चेक करेगी।

Related Articles

Back to top button