धार्मिक

21 फरवरी तक है गुप्त नवरात्रि, करें ये आसान उपाय, बदल जाएगी किस्मत, हर संकट तुरंत होंगे दूर

हिंदू धर्म में नवरात्रि का अत्यधिक महत्व माना गया है। नवरात्रि के दिनों में मां दुर्गा के नौ रूपों की 9 दिनों तक अलग-अलग पूजा की जाती है। ऐसा माना जाता है कि नवरात्रि के दिनों में मां दुर्गा की सच्चे मन से पूजा आराधना की जाए तो इससे भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। साल में चार नवरात्रि आते हैं, शरद नवरात्रि, चैत्र नवरात्रि, माघ नवरात्रि और आषाढ़ नवरात्रि। माघ और आषाढ़ नवरात्रि को गुप्त नवरात्रि कहा जाता है। इस बार गुप्त नवरात्रि 12 फरवरी से शुरू हो चुकी है और 21 फरवरी 2021 को गुप्त नवरात्रि समाप्त होगी।

गुप्त नवरात्रि में मां दुर्गा के साथ तांत्रिक 10 महाविद्याओं को खुश करने के लिए आराधना करते हैं। गुप्त नवरात्रि को समस्त कामनाओं को पूर्ण करने वाला बताया गया है। अगर गुप्त नवरात्रि के दिनों में धर्म-कर्म के उपाय किए जाए तो इससे अन्य दिनों की अपेक्षा तुरंत असर दिखाई देता है। गुप्त नवरात्रि में किए गए उपाय का प्रभाव बहुत जल्द दिखता है। यही वजह है कि तांत्रिक और अन्य सिद्धि चाहने वाले साधक गुप्त नवरात्रि में अपनी साधना को पूर्ण करना चाहते हैं।

आज हम आपको इस लेख के माध्यम से गुप्त नवरात्रि में किए जाने वाले कुछ उपायों के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं। अगर आप यह उपाय अपनाते हैं तो इससे आपकी किस्मत बदल सकती है और जीवन के सभी संकट तुरंत दूर होंगे। तो चलिए जानते हैं गुप्त नवरात्रि के इन उपायों के बारे में…..

दुर्भाग्य दूर करने के लिए गुप्त नवरात्रि में करें ये उपाय

इंसान के जीवन में कई बार ऐसा समय भी आ जाता है कि वह चारों तरफ से परेशानियों में घिर जाता है। इंसान अपने जीवन की परेशानी को खत्म करने की हर संभव कोशिश करता है परंतु उसका समाधान नहीं हो पाता है। अगर आपके जीवन में भी कुछ ऐसा समय चल रहा है तो ऐसी स्थिति में दुर्गा सप्तशती का पाठ करें। यह एक ब्रह्मास्त्र की तरह कार्य करेगा और आपके जीवन में चल रही परेशानियों को दूर कर सकता है। दुर्गा सप्तशती का पाठ करने से पहले आपको इसके कुछ नियमों का विशेष ध्यान रखना होगा। अगर आप दुर्गा सप्तशती का पाठ कर रहे हैं तो शाकाहारी बने रहना बहुत ही जरूरी है। स्त्रियों की निंदा अथवा उनका अपमान भूल कर भी मत कीजिए। अगर आपके घर में कोई निर्धन-भिखारी भोजन के लिए आता है तो उसको भोजन जरूर दीजिए।

काली सहस्त्रनाम का पाठ करें

वर्तमान समय में लोग अपने जीवन में काफी व्यस्त रहते हैं। ऐसी स्थिति में समय के अभाव के कारण आप भी अधिक पूजा पाठ करने में सक्षम नहीं हैं या फिर आप शुद्ध संस्कृत नहीं बोल सकते हैं तो ऐसी स्थिति में काली सहस्त्रनाम का जाप करें। इसके शब्द बहुत ही सरल हैं और इसका पाठ करने से आपको इसका असर तुरंत ही नजर आने लगेगा।

दशमहाविद्या की साधना से समस्त संकटों से मिलेगी मुक्ति

अगर आप अपने जीवन के समस्त संकटों से छुटकारा प्राप्त कर सके करना चाहते हैं तो इसके लिए मां भगवती के 10 अलग-अलग स्वरूप जिन्हें एक साथ दशमहाविद्या भी कहा जाता है, उनकी आराधना कीजिए परंतु इनकी साधना में सबसे महत्वपूर्ण बात यह ध्यान रखना होगा कि समस्त 10 स्वरूपों की पूजा घर पर करना संभव नहीं हो सकता है। 3 या 4 देवियों की ही पूजा घर पर की जा सकती है। शेष स्वरूपों की आराधना करने के लिए शमशान अनिवार्य है। इनकी आराधना आप किसी योग्य गुरु की देखरेख में कर सकते हैं, इससे आपको अधिक फायदा मिलेगा।

Related Articles

Back to top button