धार्मिक

इस साल 3 राशियों पर चल रही है शनि साढ़ेसाती व 2 पर ढैय्या, जानिए अशुभ प्रभावों से बचने के उपाय

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शनि देव को सबसे गुस्सैल देवता माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि यदि किसी व्यक्ति के ऊपर शनि का बुरा प्रभाव हो तो इसके कारण जीवन में बहुत सी परेशानियां उत्पन्न होने लगती हैं परंतु शनि का शुभ प्रभाव इंसान की तकदीर बदल सकती है। ज्योतिष गणना के अनुसार साल 2021 में कुछ राशियों का समय बेहद कठिन रहने वाला है। आपको बता दें कि शनि देवता मकर राशि में विराजमान हैं और इस साल 3 राशियों पर शनि की साढ़ेसाती चल रही है।

इन 3 राशियों पर रहेगी शनि की साढ़ेसाती

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस साल धनु राशि, मकर राशि और कुंभ राशि के लोगों के ऊपर शनि की साढ़ेसाती चल रही है। ज्योतिष के जानकारों के अनुसार जब शनि, चंद्र राशि से 12वें भाव, पहले भाव और द्वितीय भाव से निकलता है तो उस अवधि को शनि की साढ़ेसाती कहा जाता है। यह अवधि साढ़ेसात वर्ष की होती है।

इन 2 राशियों पर चल रही है शनि की ढैय्या

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, शनि देवता को न्याय का देवता बताया गया है जैसा मनुष्य अपने जीवन में कर्म करता है उसी के अनुसार शनि देव फल प्रदान करते हैं। इसलिए शनिदेव को कर्मफलदाता भी कहा जाता है। आपको बता दें कि इस साल मिथुन राशि और तुला राशि पर शनि की ढैय्या का प्रभाव रहेगा। ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक जब गोचर में शनि किसी राशि से चतुर्थ और अष्टम भाव में होता है तो इस स्थिति को ढैय्या कहा जाता है।

जानिए धनु राशि पर शनि की साढ़ेसाती का असर

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, धनु राशि वाले लोगों के ऊपर शनि की साढ़ेसाती चल रही है और यह आपके ऊपर साढ़ेसाती अंतिम चरण है। धनु राशि वाले लोगों के स्वामी देव गुरु बृहस्पति हैं। अगर शनि की साढ़ेसाती का प्रभाव देखें तो इसकी वजह से आपकी आर्थिक स्थिति अच्छी रहेगी। कैरियर और रोजगार के क्षेत्र में बदलाव होने की संभावना है। स्वास्थ्य के मामले में आपको सतर्क रहने की आवश्यकता है क्योंकि यह आपके स्वास्थ्य को प्रभावित करेगी। गाड़ी चलाते समय लापरवाही मत कीजिए अन्यथा चोट या दुर्घटना होने के संकेत मिल रहे हैं।

उपाय- अगर धनु राशि वाले लोग शनि की साढ़ेसाती के अशुभ प्रभावों से बचना चाहते हैं तो इसके लिए शमी के पेड़ की जड़ को काले कपड़े में पिरोकर शनिवार की शाम को दाहिने हाथ में बांधे और मंत्र “ॐ प्रां प्रीं प्रौं स: शनिश्चराय नम:” का तीन माला जाप कीजिए। इस उपाय को अपनाने से आपके जीवन की बाधाएं खत्म होंगी और शनि के नकारात्मक प्रभाव से बच सकते हैं।

जानिए मकर राशि पर शनि की साढ़ेसाती का असर

जिन लोगों की मकर राशि है उनकी ही राशि में शनि देव विराजमान रहने वाले हैं। आपके ऊपर शनि की साढ़ेसाती का दूसरा चरण चल रहा है और मकर राशि वाले लोगों के स्वामी स्वयं शनि देव हैं। इसलिए समाज में मान-सम्मान में वृद्धि होने की संभावना नजर आ रही है। शनि की साढ़ेसाती के प्रभाव की वजह से स्थान परिवर्तन के योग बन रहे हैं। अगर आपका कोई काम रुका हुआ है तो वह पूरा हो सकता है। कैरियर के क्षेत्र में भी परिवर्तन देखने को मिलेगा।

उपाय- अगर आप शनि की साढ़ेसाती के अशुभ प्रभाव से बचना चाहते हैं तो इसके लिए भगवान शिव जी की उपासना जरूर करें। आपको शिव सहस्त्रनाम या शिव के पंचाक्षरी मंत्र का पाठ नियमित रूप से करना होगा। इससे आपके जीवन की सभी बाधाएं दूर होंगी और शनि से मिलने वाला नकारात्मक प्रभाव खत्म होगा।

जानिए कुम्भ राशि पर शनि की साढ़ेसाती का असर

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुंभ राशि वाले लोगों के ऊपर शनि की साढ़ेसाती का प्रथम चरण चल रहा है और आपके स्वामी शनि देव हैं। शनि की साढ़ेसाती के प्रभाव की वजह से जिम्मेदारियां बढ़ सकती हैं। इतना ही नहीं बल्कि साथ-साथ आपके काम भी बढ़ेंगे। आप कार्यों के बोझ से काफी परेशान रह सकते हैं परंतु आप जितनी मेहनत करेंगे उसके अनुसार उचित फल की प्राप्ति होगी। आप अपनी मेहनत से अच्छा धन प्राप्त करने में सफल रहेंगे। अगर कोई विदेश में काम कर रहा है तो उसको अच्छा लाभ मिलेगा।

उपाय- अगर आप शनि की साढ़ेसाती के अशुभ प्रभाव से बचना चाहते हैं तो शनि देव को नीले रंग का अपराजिता फूल अर्पित कीजिए और काले रंग की बाती और तिल के तेल का दीपक प्रज्वलित करें। शनिवार के दिन आप महाराज दशरथ का लिखा शनि स्त्रोत पढ़िए। शनिदेव के अशुभ प्रभाव से बचने के लिए आप अमावस्या के दिन सूर्य ढलने के बाद पीपल के पेड़ के नीचे बैठकर शनिदेव का ध्यान कीजिए और सरसों के तेल का एक दीपक प्रज्वलित करें। इससे शनि से मिलने वाले नकारात्मक प्रभाव खत्म होंगे।

Related Articles

Back to top button