धार्मिक

महिला कांस्टेबल ने पेश की मिसाल! माता-पिता को हुआ कोरोना तो की 6 महीने के बच्चे की देखभाल

कोरोना महामारी की वजह से देश भर की जनता बहुत ज्यादा परेशान है। कोरोना की दूसरी लहर में कई लोगों ने अपनों को खो दिया है। इतना ही नहीं बल्कि ऐसे कई परिवार हैं, जिनके कई सदस्य कोरोना की वजह से दुनिया छोड़कर चले गए। लोगों ने कोरोना काल में अपना पूरा परिवार खो दिया। रोजाना ही कोई ना कोई ऐसी दर्दनाक खबर सुनने को मिल ही जाती है, जिसको जानकर बेहद दु:ख होता है। रोजाना ही कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ती ही जा रही है और कोरोना की वजह से लोगों की जान भी जा रही है।

कोरोना वायरस की दूसरी लहर लोगों से बहुत कुछ ले गई, जिसकी कमी कभी पूरी नहीं हो सकती है। लोगों के अंदर काफी डर बना हुआ है। कब क्या हो जाए, इसके बारे में बता पाना बहुत ही मुश्किल है। आप सभी लोग रोजाना ही कोरोना काल में बहुत सी खबरें सुनते होंगे लेकिन एक ऐसी ही खबर दिल्ली से सामने आई है।

आपको बता दें कि दिल्ली में एक कपल को कोरोना हो गया था और उनका एक 6 महीने का मासूम बच्चा भी था। माता-पिता को कोरोना होने के बाद उस बच्चे की देखभाल करने वाला कोई भी नहीं था। ऐसी स्थिति में माता-पिता को अपने बच्चे की चिंता सताने लगी परंतु एक महिला पुलिसकर्मी उनकी सहायता के लिए सामने आई और मुसीबत में महिला पुलिसकर्मी ने बच्चे का ख्याल रखा।

दरअसल, दिल्ली से जो मामला सामने आया है यह रेडियो कॉलोनी जीटीबी नगर में रहने वाले एक कपल का है, जिनको कोविड-19 गया और उनके 6 महीने के बच्चे की रिपोर्ट नेगेटिव आई। जब दोनों को कोविड-19 हो गया तो उन्होंने दिल्ली पुलिस को फोन किया और उनसे सहायता मांगी।

कपल का ऐसा बताना है कि उनके रिश्तेदार यूपी में लगे लॉक डाउन की वजह से दिल्ली नहीं आ पा रहे थे। ऐसी स्थिति में उनको अपने बच्चे की चिंता बहुत सता रही थी। उनके मन में यही डर था कि उसके छह महीने के मासूम बच्चे को कोरोना ना हो जाए, जिसको लेकर वह काफी परेशान थे।

जब इस पूरे मामले की सूचना शहादरा जिले में तैनात महिला हेड कांस्टेबल राखी को हुई तो उन्होंने अपने सीनियर अफसरों से इस विषय में बातचीत की थी, जिसके बाद राखी ने कपल से संपर्क किया था और महिला पुलिसकर्मी उनके 6 महीने के बच्चे को अपने साथ लेकर आ गई थी। राखी ने बच्चे के कपड़े, खाना और जरूरत का सारा सामान ले लिया और बच्चे की देखभाल की। राखी 6 महीने के बच्चे की देखभाल करने लगी। उन्होंने बच्चे को खिलाया, पिलाया और सुरक्षित उसके दादा-दादी के पास मोदीनगर पहुंचा दिया।

सोशल मीडिया पर यह खबर काफी तेजी से वायरल हो रही है। सभी लोग महिला हेड कॉन्स्टेबल की खूब तारीफ कर रहे हैं। मुसीबत की इस घड़ी में जिस प्रकार महिला हेड कॉन्स्टेबल ने इस कपल की मदद की है और उनके 6 महीने के बच्चे का ध्यान रखा है, उसकी जितनी तारीफ की जाए उतनी ही कम है। दोस्तों इस खाकी वर्दी के पीछे ममता भी छुपी होती है जिसका जीता जागता उदाहरण आपके सामने है। हम राखी को सलाम करते हैं।

Related Articles

Back to top button