धार्मिक

शुक्रवार की रात कर लीजिए ये खास काम, जीवन संवार देंगी मां लक्ष्मी, कभी नहीं होगी धन कमी

सभी लोग अपने जीवन में धनवान बनना चाहते हैं। लोग दिन-रात मेहनत करके खूब पैसा कमाना चाहते हैं परंतु अपने सपने पूरे करने में ज्यादातर लोग सफल नहीं हो पाते। ऐसा माना जाता है कि अगर व्यक्ति को धन प्राप्ति की इच्छा है तो इसके लिए माता लक्ष्मी जी की कृपा होना बहुत ही जरूरी है। जिस व्यक्ति के ऊपर मां लक्ष्मी जी की कृपा होती है उस व्यक्ति के जीवन से धन से जुड़ी हुई परेशानियां दूर हो जाती हैं। इसी वजह से मां लक्ष्मी जी को प्रसन्न करना बेहद जरूरी है।

वैसे देखा जाए तो मां लक्ष्मी जी की पूजा दीपावली पर विशेष रूप से की जाती है परंतु इसके अलावा भी कई तरीके होते हैं जिसमें हम मां लक्ष्मी की पूजा करके उनका आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं। धार्मिक शास्त्रों के अनुसार शुक्रवार का दिन धन की देवी माता लक्ष्मी जी को समर्पित है। इस दिन माता लक्ष्मी जी की पूजा पूरी विधि-विधान पूर्वक की जाए तो घर में धन-समृद्धि का आगमन होता है।

ज्योतिष दृष्टि से देखा जाए तो शुक्रवार का दिन शुक्र ग्रह का भी माना गया है। शुक्र ग्रह सौंदर्य, ऐश्वर्य, वैभव, कला, संगीत, काम वासना एवं सभी प्रकार के सांसारिक सुखों के कारक माने जाते हैं। आज हम आपको इस लेख के माध्यम से मां लक्ष्मी जी की कृपा पाने के कुछ उपाय बताने वाले हैं। अगर आप शुक्रवार की रात यह साधारण सा उपाय कर लेते हैं तो इससे मां लक्ष्मी जी आपसे प्रसन्न होंगी और जीवन की धन से जुड़ी हुई परेशानियां दूर हो सकती है।

शुक्रवार की रात करें ये खास काम

1. अगर आप माता लक्ष्मी जी की कृपा पाना चाहते हैं तो इसके लिए शुक्रवार की रात 9:00 से 10:00 के बीच माता रानी की विधि विधान पूर्वक पूजा जरूर करें। अगर आप ऐसा करेंगे तो इससे आर्थिक परेशानियों से शीघ्र ही छुटकारा मिल सकता है और जीवन से धन से जुड़ी हुई समस्याएं समाप्त हो जाएंगी।

2. आपको बता दें कि धन की देवी माता लक्ष्मी जी और शुक्र ग्रह को गुलाबी रंग अधिक प्रिय है। इसी वजह से आप शुक्रवार की रात को माता लक्ष्मी जी की पूजा करते समय गुलाबी रंग के वस्त्र धारण करें। ऐसा करने से माता लक्ष्मी जी आपसे प्रसन्न होती हैं। इतना ही नहीं अगर किसी व्यक्ति की कुंडली में शुक्र ग्रह की स्थिति कमजोर है तो इससे आपकी कुंडली में शुक्र ग्रह मजबूत भी बनेगा।

3. शुक्रवार की रात मा लक्ष्मी जी की पूजा करने के दौरान आप माता की प्रतिमा को गुलाबी रंग के कपड़े पर स्थापित कीजिए और इसके साथ श्री यंत्र जरूर रखिए।

4. इसके बाद आपको पूजा की थाली सजा नहीं होगी। आप थाली में गाय के घी के आठ दीपक जलाएं और गुलाब की सुगंध वाली धूप बत्ती जला कर माता रानी को मावे की बर्फी का भोग लगाइए।

5. इसके बाद आप धन की देवी माता लक्ष्मी जी की प्रतिमा और श्री यंत्र पर अष्ट गंध से ही तिलक करें। इसके बाद आपको कमलगट्टे की माला से मंत्र “ऐं ह्रीं श्रीं अष्टलक्ष्मीयै ह्रीं सिद्धये मम गृहे आगच्छागच्छ नमः स्वाहा” का जाप 108 बार श्रद्धा और विश्वास के साथ करना होगा।

6. जब आपकी पूजा पूरी हो जाए तब उसके पश्चात जो आपने आठ दीपक जलाएं हैं वह घर की आठ दिशाओं में रख दीजिए और कमल गट्टे की माला को आप अपनी तिजोरी में रखें।

7. यह सब कार्य करने के पश्चात आखिर में आप माता लक्ष्मी जी की पूजा के समय जाने-अनजाने में हुई भूल की क्षमा मांगे और माता लक्ष्मी जी से प्रार्थना कीजिए कि वह आपके ऊपर अपनी कृपा दृष्टि हमेशा बनाए रखें। इसके साथ ही आप माता से विनती करें कि वह आपके जीवन में सुख-समृद्धि, धन और ऐश्वर्य में वृद्धि करें।

Related Articles

Back to top button