विशेष

चार बार हुए फेल, नहीं मानी हार, कड़ी मेहनत के दम पर रैंक 1 हासिल कर IAS बनने का सपना किया पूरा

UPSC में 4 बार फेल होने के बाद भी नहीं मानी हार और आखिरी प्रयास मे रैंक 1 लेकर बने IAS अधिकारी

इस संसार में हर इंसान एक कामयाब इंसान बनना चाहता है। लोग पढ़ाई-लिखाई करके यही चाहते हैं कि वह कोई बड़े अधिकारी बने। वैसे देखा जाए तो मौजूदा समय में हर नौजवान का यही सपना होता है कि वह यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा पास करके आईएएस अफसर बने। अपने इस सपने को पूरा करने के लिए बहुत से लोग सालों तक कड़ी मेहनत करते हैं परंतु इसके बावजूद भी सभी लोगों को कामयाबी नहीं मिल पाती है।

यूपीएससी की परीक्षा सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक मानी जाती है। ऐसे कुछ लोग होते हैं जो इस परीक्षा को पास कर जाते हैं परंतु ऐसा नहीं है कि आप लोग यूपीएससी की परीक्षा पास नहीं कर पाएंगे। अगर आपको बार-बार असफलता का सामना करना पड़ रहा है तो ऐसी स्थिति में बिल्कुल भी नहीं घबराना चाहिए। असफलता मिलने पर व्यक्ति को और अधिक मेहनत करनी चाहिए। जब तक उसको अपने मन मुताबिक सफलता नहीं मिल जाती।

आज हम आपको इस लेख के माध्यम से एक ऐसे शख्स के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं जिन्होंने एक बार नहीं बल्कि कई बार यूपीएससी परीक्षा में असफलता का सामना किया है परंतु इसके बावजूद भी उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और आखिर में उनकी मेहनत रंग लाई। दरअसल, हम आपको जिसके बारे में बताने वाले हैं उनका नाम अनुदीप दूरीशेट्टी है जिन्होंने ऑल इंडिया रैंक 1 हासिल करके आईएएस बनने का अपना सपना पूरा कर लिया है। IAS अनुदीप दूरीशेट्टी की कहानी ऐसे लोगों के लिए प्रेरणादायक साबित होती है, जो असफलताओं की वजह से निराश हो जाते हैं।

सबसे पहले आपको यह ध्यान रखना होगा कि कोई भी मंजिल आसान नहीं होती है। व्यक्ति को अपनी मंजिल तक पहुंचने के लिए बहुत से उतार-चढ़ाव का सामना करना पड़ता है। जो लोग सभी परिस्थितियों को पार कर लेते हैं वह अपनी मंजिल तक पहुंच जाते हैं। अनुदीप मूल रूप से तेलंगाना के रहने वाले हैं और उनकी शुरुआती पढ़ाई गृह नगर में हुई। इसके बाद उन्होंने इंजीनियरिंग करने का फैसला कर लिया। इंजीनियरिंग के लिए उन्होंने राजस्थान का एक इंस्टिट्यूट चुना था। इस दौरान उनके साथ बहुत सी घटनाएं हुई जिन्हें देखकर उनके मन में यूपीएससी परीक्षा पास कर आईएएस अधिकारी बनने का सपना आने लगा था और उन्होंने यह ठान लिया कि वह आईएएस अधिकारी जरूर बनेंगे और इसके लिए डिग्री पूरी होने के बाद तैयारी में जुट गए।

अनुदीप ने सबसे पहले साल 2012 में पहली बार यूपीएससी की परीक्षा दी थी, जिसमें उनको निराशा का सामना करना पड़ा परंतु असफलता मिलने की वजह से वह बिल्कुल भी निराश नहीं हुए। उसके बाद उन्होंने और तैयारी की और दूसरा प्रयास किया। दूसरे प्रयास में उनकी परीक्षा पास हो गई लेकिन उन्हें आईआरएस सेवा मिली थी। उन्होंने आईआरएस सेवा ज्वाइन कर ली परंतु उनका सपना अभी पूरा नहीं हुआ था। उनके दिमाग में आईएएस बनने का सपना घूम रहा था इसलिए उन्होंने तीसरा और चौथा प्रयास भी किया परंतु यहां भी उनको सफलता नहीं मिल पाई।

अनुदीप को बार-बार असफलता का सामना करना पड़ा परंतु उनके हौसले मजबूत थे, जिसके चलते उन्होंने अपना प्रयास जारी रखा। आखिर में उनकी मेहनत रंग लाई। पांचवें प्रयास में उन्होंने सफलता हासिल कर ली। इतना ही नहीं बल्कि साल 2017 में वह ऑल इंडिया टॉपर भी बने।

Back to top button