बॉलीवुड

बेहद खूबसूरत थी संजय दत्त की पहली पत्नी ऋचा शर्मा, मैगज़ीन में फोटो देख कर दिल हार बैठे थे

संजय दत्त एक ऐसे अभिनेता हैं, जिनका पूरा जीवन ही विवादों से भरा हुआ है। शायद ही संजय दत्त की तरह किसी और बॉलीवुड इंडस्ट्री के सितारे की जिंदगी इतनी विवादित रही होगी। संजय दत्त ने बॉलीवुड इंडस्ट्री में अपने अभिनय के दम पर अच्छी खासी पहचान बनाई है। उन्होंने अपने फिल्मी करियर में कई फिल्मों में काम किया है और लोगों के द्वारा उनके अभिनय की सराहना भी की जाती है। संजय दत्त का जीवन बहुत सी कठिनाइयों से भरा रहा है।

संजय दत्त अपनी फिल्मों के साथ-साथ अपनी निजी जिंदगी को लेकर भी सुर्खियों में छाए रहे हैं। संजय दत्त ने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत एक बाल कलाकार के रूप में पहली फिल्म “रेशमा और शेरा” से की थी और उसके बाद बतौर मुख्य अभिनेता साल 1991 में फिल्म “रॉकी” में उन्होंने काम किया। इसके बाद उन्होंने खूब लोकप्रियता हासिल की। दर्शकों ने भी उनकी इस फिल्म को बेहद पसंद किया और यह फिल्म सफल साबित हुई थी।

संजय दत्त ने अपने करियर में सकारात्मक और नकारात्मक दोनों ही किरदार निभाए हैं और दोनों ही भूमिका में लोगों में अभिनेता को पसंद किया है। एक के बाद एक फिल्म में काम करने के बाद संजय दत्त के करियर ने एक नई ऊंचाई को छुआ और वह बॉलीवुड इंडस्ट्री के दिग्गज कलाकारों की लिस्ट में शामिल हुए।

अगर हम संजय दत्त की निजी जिंदगी की बात करें तो उनकी पहली पत्नी का नाम ऋचा शर्मा था। वह भारत एक अभिनेत्री बनने आई थीं परंतु ऋचा शर्मा को अभिनेता संजय दत्त से प्यार हो गया था और इन दोनों ने विवाह करने का फैसला कर लिया परंतु इन दोनों के रिश्ते का अंत बहुत ही दुखद हुआ था। 32 साल की उम्र में ही ऋचा शर्मा ने दम तोड़ दिया था।

संजय दत्त की पहली पत्नी ऋचा शर्मा का जन्म 6 अगस्त 1963 को न्यूयॉर्क में हुआ था और उन्होंने 1987 में संजय दत्त से शादी रचाई थी। शादी के एक साल बाद दोनों की एक बेटी त्रिशला हुई परंतु बेटी के जन्म के कुछ सालों के बाद ऋचा शर्मा को यह पता लगा कि उन्हें ब्रेन ट्यूमर है, जिसके इलाज के लिए वह न्यूयॉर्क चली गई थीं। कई सालों तक वहां पर इलाज किया चला परंतु साल 1996 में वह इस दुनिया को अलविदा कह कर चली गयीं।

आपको बता दें कि ऋचा शर्मा देवानंद की फिल्म में अभिनेत्री बनने के लिए आई थीं परंतु उस समय के दौरान उनकी उम्र बहुत कम थी, जिसकी वजह से उनको काम नहीं मिल सका लेकिन देवानंद ने अपनी अगली फिल्म “हम नौजवान” में उनको काम करने का अवसर दिया था। यह फिल्म 1985 में रिलीज हुई थी। इसके बाद ऋचा शर्मा अनुभव, इंसाफ की आवाज, सड़क छाप जैसी फिल्मों में नजर आईं। ऋचा शर्मा की आखिरी फिल्म 1987 में रिलीज हुई थी, जिसका नाम आग ही आग था। इस फिल्म के दौरान संजय दत्त से उनकी मुलाकात हुई थी।

ऐसा बताया जाता है कि संजय दत्त ने पहली बार ऋचा शर्मा की तस्वीर एक लोकल मैगजीन में देखी थी और इस तस्वीर को देखते ही वह अपना दिल हार बैठे थे। जब ऋचा शर्मा 1987 में फिल्म “आग ही आग” की शूटिंग कर रही थीं तो उस दौरान संजय दत्त ने उन्हें प्रपोज कर दिया था और ऋचा ने भी उनको हां कह दी थी लेकिन संजय दत्त चाहते थे कि ऋचा शर्मा शादी के बाद फिल्मों में काम ना करें और इस बात को ऋचा शर्मा ने मान भी ली थी और दोनों ने शादी कर ली।

संजय दत्त और ऋचा शर्मा अपनी शादीशुदा जिंदगी खुशहाल व्यतीत कर रहे थे परंतु 2 साल के बाद ऋचा को ब्रेन ट्यूमर के बारे में पता चला जिसके इलाज के लिए वह विदेश चली गई थीं।

यहां संजय दत्त ऋचा शर्मा की जुदाई की वजह से बहुत परेशान रहने लगे थे। इसी दौरान संजय दत्त और माधुरी दीक्षित के बीच नजदीकियां बढ़ने लगी थी और धीरे-धीरे ऋचा शर्मा अभिनेता के दिमाग से उतरने लग गईं।

जब रिचा शर्मा अपनी बीमारी के इलाज के बाद ठीक हो गईं तो वह वापस भारत लौट कर आ गई थीं। वह चाहती थीं कि वह संजय दत्त के साथ अपनी नई जिंदगी शुरू करें परंतु शायद तब तक बहुत कुछ बदल चुका था। संजय दत्त यहां पर अपनी दूसरी ही जिंदगी में बिजी हो गए थे।

ऋचा शर्मा की बहन एना ने एक इंटरव्यू के दौरान यह बताया था कि संजय दत्त अपनी पत्नी को एयरपोर्ट पर लेने के लिए भी नहीं आए थे। जबकि उन्होंने संजय को दो बार फोन किया था। 15 दिन भारत में रहने के बाद फिर से वह न्यूयॉर्क वापस आ गई थीं। संजय दत्त का प्यार खत्म हो चुका था जो ऋचा शर्मा से बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं हुआ। जब वह वापस न्यूयॉर्क आईं तो कुछ दिन के बाद फिर से उन्हें ब्रेन ट्यूमर हो गया और 10 दिसंबर साल 1996 में वह इस दुनिया को अलविदा कह कर चली गईं।

Back to top button