विशेष

क्रिकेटर रवींद्र जडेजा के घर छिड़ा सियासी संग्राम, बहन और पत्नी हुई आमने-सामने। जानिए वज़ह…

भारतीय क्रिकेट टीम के आल राउंडर खिलाड़ी रवींद्र जडेजा एक बार फ़िर चर्चा में हैं। जी हां आपको बता दें कि इस बार जडेजा अपने खेल को लेकर नहीं, बल्कि अपने ही घर में छिड़े सियासी संग्राम के कारण सुर्खियों में हैं। बता दें कि उनकी बहन नयनाबा जडेजा और पत्नी रीवाबा जडेजा के बीच राजनीतिक युद्ध छिड़ा हुआ है। जी हां इस बार मुद्दा मास्क न पहनने का है। तो आइए जानते हैं पूरी कहानी विस्तार से…

Ravindra Jadeja

बता दें कि कोरोना प्रोटोकॉल को लेकर एकबार फिर से जडेजा की बहन नयनाबा जडेजा ने अपनी भाभी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। दरअसल, जडेजा की शादी को करीब 5 साल हुए हैं, लेकिन ननद-भाभी के बीच करीब दो साल से भारी तकरार जारी है। जानकारी के मुताबिक मौजूदा राजनीतिक विवाद आने वाले विधानसभा चुनावों की वजह से है, जिसको लेकर दोनों के रास्ते पूरी तरह से जुदा हो चुके हैं।

रवींद्र जडेजा के घर में छिड़ा सियासी संग्राम…

naina-jadeja

गौरतलब हो कि क्रिकेटर रवींद्र जडेजा की पत्नी और बहन एकबार फिर से आमने-सामने हैं। भाभी रीवाबा जडेजा और ननद नयनाबा जडेजा में इसबार आर-पार की लड़ाई की वजह बन रहा है एक मास्क और महिलाओं की एक छोटी सी भीड़। जी हां जिसको लेकर रवींद्र जडेजा की बहन ने उनकी पत्नी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। बता दें कि दोनों ननद-भाभी पहले से ही अलग-अलग यानी कांग्रेस और भाजपा में हैं, जिसकी वजह से उनके घर के अंदर भी सियासी पारा हमेशा चढ़ा ही रहता है। लेकिन, अगले साल होने वाले गुजरात विधानसभा चुनाव से पहले एकबार फिर से जडेजा के घर में ही चुनावी बिसात बिछनी शुरू हो गई है।

ननद-भाभी की सियासी लड़ाई में पिस रहे जडेजा बेचारे…

naina-jadeja

बता दें कि रवींद्र जडेजा की पत्नी करीब ढाई साल पहले भाजपा में शामिल हुई थीं। तब से लेकर अबतक रीवाबा जडेजा राजनीति में बहुत ही ज्यादा सक्रिय हैं। वो सौराष्ट्र में करणी सेना के महिला मोर्चे की अध्यक्ष भी हैं, जो क्षत्रीय समाज से जुड़ा एक संगठन है। वहीं उनकी ननद या रवींद्र जडेजा की बहन नयनाबा जडेजा ने अपनी भाभी के एक महीने बाद ही कांग्रेस का हाथ थाम लिया था।

ravindra-jadeja-wife-

उनके साथ उनके पिता अनिरुद्धसिंह जडेजा भी जामनगर में लोकसभा चुनाव से ठीक पहले कांग्रेसी बन गए थे। तब से लेकर ननद-भाभी के बीच सियासी टकराव जारी है, जो बीच-बीच में तेज हो जाता है। अलबत्ता रीवाबा को पति का और नयनाबा को पिता का साथ मिला हुआ है।

ravindra-jadeja-wife-

वहीं इसबार जडेजा की बीवी और बहन के बीच टकराव कोरोना प्रोटोकॉल को लेकर हो रहा है, लेकिन उसके पीछे दरअसल, जामनगर इलाके में राजनीतिक वर्चस्व कायम करना है। पिछले हफ्ते की बात है। जब जानकारी के मुताबिक जडेजा की पत्नी पास के एक गांव में अपना जन्मदिन मनाने गई थीं। लेकिन, नेता हैं तो महिलाओं के बीच भाषण देने से भी खुद को रोक नहीं पाईं।

उन्होंने महिलाओं से कहा कि कोरोना का खतरा टला नहीं है, इसलिए सावधान रहें। आरोप है कि इस दौरान उन्होंने खुद ही मास्क नहीं लगा रखा था। लेकिन, उनकी कांग्रेसी ननद को मुद्दा मिल गया कि खुद भीड़ जुटाती हैं और दूसरों को नसीहत देती हैं। ननद का आरोप है कि उनकी भाभी और भाजपा नेता गुजरात में कोरोना की तीसरी लहर लाने का काम कर रही हैं।

मास्क नहीं पहनने को लेकर पहले भी हो चुका है विवाद…

बता दें कि रीवाबा जडेजा कोरोना प्रोटोकॉल तोड़ने को लेकर पहली बार विवादों में नहीं आई हैं। पिछले साल अगस्त में क्रिकेटर रवींद्र जडेजा पत्नी और परिवार के करीबी दोस्तों के साथ कार में जा रहे थे। जडेजा खुद ड्राइव कर रहे थे। इस दौरान रीवाबा जडेजा ने मास्क नहीं पहना था। जब पुलिस ने गाड़ी रोककर मास्क नहीं पहनने के लिए जुर्माना भरने को कहा तो वह भड़क गईं। उन्होंने महिला पुलिसकर्मी से जोरदार बहस की और इस दौरान उनका ब्लड प्रेशर इतना बढ़ गया कि वो बेहोश हो गईं और उन्हें अस्पताल ले जाना पड़ा।

ravindra-jadeja-wife-

वहीं आख़िर में बता दें कि रीवाबा जडेजा हाल के दिनों में जामनगर क्षेत्र में काफी महिला सम्मेलन कर रही हैं और माना जा रहा है कि वह इस क्षेत्र में अपना सियासी प्रभाव कायम करने में लगी हुई हैं और यही बात जडेजा की बहन को खटक रही है। नयनाबा जडेजा भी सामाजिक कार्यों में बहुत सक्रिय रहती हैं

और वह राजनीति में आने का कारण यह बताती हैं कि वह इसके जरिए खासकर महिलाओं के लिए और ज्यादा काम करना चाहती हैं। उनका मानना है कि लोगों तक पहुंचने का यह बेहतर माध्यम है। अब बड़ा सवाल है कि क्या अगले विधानसभा चुनाव में भी जामनगर की जनता इस ननद-भाभी की जोड़ी को आमने-सामने देखेगी?

Back to top button