विशेष

हजारों साल पहले इन विशालकाय ‘मैमथ’ हाथियों के चलने से कांप उठती थी धरती, उनका होगा पुनर्जन्म

आज से हजारों साल पहले पृथ्वी पर एक ऐसी प्रजाति का हाथी पाया जाता था जो बहुत ही विशालकाय और डरावना होता था। इस हाथी के दांत बड़े-बड़े और लंबे होते थे और इस हाथी की प्रजाति को ‘वुली मैमथ’ के नाम से जाना जाता था। हाल ही में खबर आई है कि, यह बड़े-बड़े दांत वाले विशालकाय हाथी दोबारा फिर से जंगलों में घूमते नजर आ सकते हैं। इतना ही नहीं बल्कि इकोसिस्टम के माध्यम से इन विशालकाय हाथियों को वैज्ञानिक महज 6 साल के अंदर ही वापस आर्कटिक के जंगलों में लाना चाहते हैं।

memath elephant

द गार्जियन की रिपोर्ट के अनुसार, करीब 2 साल पहले मशहूर कारोबारी बेन लैम ने हावर्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिक जॉर्ज चर्च से मुलाकात की। इस दौरान दोनों ने मिलकर फैसला लिया कि वह हजारों साल पहले लुप्त हो चुके हाथियों की प्रजाति को वापस धरती पर लेकर आएंगे। इसके बाद दोनों इस ने क्रांतिकारी प्रोजेक्ट को शुरू कर दिया। इस प्रोजेक्ट पर काम करने वाले वैज्ञानिकों का कहना है कि, वह महज 6 साल के अंदर ही इस क्रांतिकारी प्रोजेक्ट में कामयाब हो जाएंगे।

woolly mammoth

खबरों की माने तो इस प्रोजेक्ट के लिए कारोबारी बैन लेम ने करीब 11 मिलियन पाउंड पैसा लगाने की बात कही है। वैज्ञानिक जॉर्ज चर्च और बेन लैम ने इस प्रोजेक्ट का नाम ‘कोलोसल’ दिया है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, वैज्ञानिक डॉर्ज जीन एडिटिंग में बहुत माहिर है और उनकी मदद से इस प्रोजक्ट को अंजाम देंगे।

memath elephant

लंबे समय से चल रहा है यह प्रोजेक्ट

memath elephant

रिपोर्ट की माने तो यह प्रोजेक्ट काफी लंबे समय से चल रहा था लेकिन इस प्रोजेक्ट पर पैसा लगाने के लिए कोई लोग नहीं मिल रहे थे। ऐसे में यह प्रोजेक्ट आगे बढ़ने में परेशानी हो रही थी। वैज्ञानिक जॉर्ज चर्च का कहना है कि, पिछले 15 सालों से हमारे पास एक लाख डॉलर थे जो कि मेरी प्रयोगशाला में किसी भी अन्य प्रोजेक्ट से कम है लेकिन यह प्रोजेक्ट मेरा सबसे पसंदीदा है।

हालांकि पैसों की कमी की वजह से पूरी तरह से काम नहीं हो पा रहा था लेकिन अब पैसों का पूरा इंतजाम हो चुका है और सब कुछ सही रहा तो अगले 10 सालों में लुफ्त जानवरों को वापस धरती पर लाने का हमारा सपना सच साबित हो सकता है। बता दें, सोमवार को इस प्रोजेक्ट की घोषणा कर दी थी।

woolly mammoth

कैसे बनाए जाएंगे लुप्त प्रजाति के मैमथ हाथी?

लुप्त हो चुके मैमथ हाथियों के पुनर्जन्म की यह कहानी वैसे तो पूरी तरह से बनावटी लगती है लेकिन वैज्ञानिकों का कहना है कि वह मैमथ डीएनए से लैब में भ्रूण पैदा करेंगे। इसके बाद हाथी-मैमथ हाइब्रिड तैयार किया जाएगा। वैज्ञानिकों का कहना है कि, इस प्रोजेक्ट में एशिया के पाए जाने वाले हाथियों का भी उपयोग किया जाएगा। साथ ही जेनेटिक इंजीनियरिंग के जरिए हाथियों का एक नया ब्रीड बनाया जाएगा।

memath elephant

वैज्ञानिक जॉर्ज चर्च का कहना है कि, “हम एक ऐसे हाथी का निर्माण करना चाहते हैं जो आर्कटिक की भीषण सर्दी में भी जिंदा रह सके और अपनी आबादी बढ़ा सके। उन्होंने बताया कि हमारे द्वारा निर्माण किए गए हाथी पूरी तरह से मैमथ हाथियों की तरह ही होंगे और उसी तरह ही उनका व्यवहार रहेगा। लुप्त हो चुकी प्रजाति ‘कोलोसल’ का बछड़ा पैदा करने में करीब 6 वर्ष का समय लग सकता है।”

memath elephant

इसके अलावा वैज्ञानिक जॉज चर्च ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि, “जब लोग मुझसे इस प्रोजेक्ट के बारे में सवाल पूछते थे तो मैं अक्सर कहता था कि, मुझे नहीं पता हमारे पास कोई फंडिंग नहीं है लेकिन अब मैं इसे बिल्कुल नहीं टाल सकता। अब मैं कह सकता हूं कि 6 साल से ज्यादा समय नहीं लगेगा। हमारा लक्ष्य मैमथ के अंतर-प्रजनन योग्य झुंडों का निर्माण करना है, जो प्रजनन के जरिए अपनी आबादी बढ़ा सके और आर्कटिक में पुनर्निर्माण का लाभ उठा सकें।”

Back to top button