विशेष

मरने से पहले मौत को महसूस करना चाहते थे राजकुमार, निकलवाई थी अपनी शवयात्रा

हिंदी सिनेमा के दिग्गज अभिनेता राजकुमार अपनी शानदार एक्टिंग के साथ-साथ अपने अलग अंदाज के लिए भी जाने जाते थे। सिगार पकड़ने का स्टाइल हो या फिर डायलॉग बोलने का स्टाइल राजकुमार को हर अंदाज में पसंद किया गया है। राजकुमार काफी मजाकिया अंदाज वाले व्यक्ति थे जिसके चलते वह फिल्म के सेट पर भी लोगों से हंसी मजाक करते रहते थे। राजकुमार ने मशहूर डायरेक्टर मेहुल कुमार के साथ कई फिल्मों में काम किया। एक इंटरव्यू के दौरान मेहुल कुमार ने राजकुमार की मौत से जुड़े एक किस्सा शेयर किया था जिसे बहुत कम लोग ही जानते हैं। आइए जानते हैं क्या है यह पूरा किस्सा?

दरअसल, फिल्म ‘मरते दम तक’ का निर्देशन मेहुल कुमार ने किया था। इस फिल्म में मुख्य भूमिका में राजकुमार थे। एक इंटरव्यू के दौरान मेहुल कुमार ने बताया था कि, “फिल्म में राजकुमार की मौत का एक सीन था।

इस सीन में राजकुमार को मरना था लेकिन राजकुमार इस सीन को असल में महसूस करना चाहते थे। ऐसे में राजकुमार ने खुद को मरा हुआ डिक्लेअर करवाने पर हम लोगों को मजबूर कर दिया था। इसके लिए शमशान तक शव यात्रा भी निकाली गई थी। इससे पहले बाकायदा राजकुमार को गाडी में लेटाया गया था और उन पर फूल भी चढ़ाए गए थे।”

rajkumar

मेहुल ने बताया कि, जब मैं सीन के दौरान राजकुमार को फूलों की माला पहनाने गया तो राजकुमार ने कहा कि, ‘जानी अभी पहना लो माला, जब जाएंगे आपको पता भी नहीं चला कि कब गए।” राजकुमार ने जो कुछ कहा था वह अपनी मौत के बाद साबित कर दिया था इस सीन को करने के दौरान मुझे यह सब मजाक लग रहा था लेकिन सच में जब राजकुमार इस दुनिया से गए तो किसी को खबर तक नहीं मिल पाई। इतना ही नहीं बल्कि लोगों को उनकी मौत की खबर तब मिली जब उनका देह संस्कार हो चुका था। मेहुल कुमार ने कहा कि, बहुत समय पहले ही राजकुमार ने अपने मरने की योजना बना ली थी कि उनकी मौत क्या है और कैसे होनी है।

rajkumar

बता दें, राजकुमार ने 3 जुलाई 1996 को इस दुनिया को अलविदा कह दिया था। फिल्मों में आने से पहले राजकुमार मुंबई पुलिस में सब इंस्पेक्टर थे। उन्होंने अपने अभिनय करियर की शुरूआत साल 1952 की हिंदी फिल्म ‘रंगीली’ के साथ की थी। फिल्म ‘रंगीली’ में काम करने के बाद राजकुमार को कोई ख़ास पहचान नहीं मिल पाई थी।

rajkumar

इसके बाद वह ‘घमंड’, ‘लाखों में एक’ जैसी फिल्मों में नजर आए लेकिन उन्हें फिल्म ‘मदर इंडिया’ (1957) से लोकप्रियता हासिल हुई। इसके बाद उन्होंने हिंदी सिनेमा को कई सुपरहिट फ़िल्में दी। राजकुमार ने 4 दशकों से अधिक के करियर में करीब 70 से अधिक फिल्मों में काम कर दर्शकों का इंटरटेनमेंट किया। आज भी राजकुमार के डायलॉग्स पसंद किए जाते हैं।

Back to top button