धार्मिक

तिरुपति बालाजी मंदिर से जुड़े हुए ऐसे रहस्य जो नहीं जानते होंगे आप, वैज्ञानिक भी मान गए हार

भारत धार्मिक देशों में से एक माना जाता है। भारत में ऐसे बहुत से मंदिर हैं जो अपने चमत्कार और रहस्य के लिए दुनिया भर में प्रसिद्ध हैं। ऐसे बहुत से मंदिर हैं जिनके रहस्य अभी तक रहस्य ही बने हुए हैं। वैज्ञानिक भी इनका रहस्य पता नहीं कर पाए। उन्ही मंदिरों में से एक भगवान तिरुपति बालाजी का मंदिर भी शामिल है। भगवान के इस दरबार में गरीब और अमीर दोनों ही सच्ची श्रद्धाभाव के साथ अपना सिर झुकाते हैं। हर साल लाखों लोग तिरुमाला की पहाड़ियों पर स्थित इस मंदिर में भगवान वेंकटेश्वर का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए आते हैं।

आपको बता दें कि भगवान तिरुपति बालाजी का चमत्कारिक और रहस्यमई मंदिर भारत समेत पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है और यह मंदिर भारतीय वास्तु कला और शिल्प कला का उद्धरण है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार भगवान बालाजी अपनी पत्नी पद्मावती के साथ तिरुमला में निवास करते हैं। ऐसा माना जाता है कि जो भक्त सच्चे मन से भगवान के सामने प्रार्थना करता है उसकी सारी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। मनोकामना पूर्ण होने पर भक्त अपनी श्रद्धा के अनुसार यहां आकर तिरुपति बालाजी मंदिर में अपने बाल दान करते हैं। इस अलौकिक और चमत्कारिक मंदिर से ऐसे रहस्य जुड़े हुए हैं जिनके बारे में शायद ही कोई जानता हो। तो चलिए जानते हैं इस मंदिर से जुड़े हुए रहस्य…

तिरुपति बालाजी मंदिर से जुड़े हुए रहस्य

1. भगवान के इस मंदिर के बारे में ऐसा बताया जाता है कि जो भगवान वेंकटेश्वर स्वामी की मूर्ति पर बाल लगे हुए हैं, वह असली हैं और सबसे बड़ी खास बात यह है कि यह कभी उलझते नहीं हैं और यह बाल हमेशा मुलायम रहते हैं। ऐसा माना जाता है कि यहां भगवान खुद विराजमान हैं।

2. अगर आप भगवान बालाजी के गर्भ गृह में जाकर देखेंगे तो आपको दिखेगा की मूर्ति गर्भ गृह के मध्य में स्थित है परंतु जैसे ही आप गर्भ गृह से बाहर आएंगे तो आप भी हैरान हो जाएंगे क्योंकि बाहर आकर ऐसा लगता है कि भगवान की मूर्ति दाहिनी तरफ स्थित है। आखिर यह लोगों का भ्रम है या फिर भगवान का कोई चमत्कार है? यह रहस्य अभी तक रहस्य बना हुआ है।

3. ऐसा माना जाता है कि भगवान के इस रूप में मां लक्ष्मी भी समाहित हैं, जिसकी वजह से श्री वेंकटेश्वर स्वामी को स्त्री और पुरुष दोनों के वस्त्र पहनाने की परंपरा है। भगवान की प्रतिमा को प्रतिदिन नीचे धोती और ऊपर साड़ी में सजाया जाता है।

4. आपको बता दें कि भगवान वेंकटेश्वर की प्रतिमा एक विशेष पत्थर से बनी हुई है। मगर यह पूरी तरह से जीवंत लगती है। ऐसा प्रतीत होता है कि जैसे भगवान विष्णु जो स्वयं यहां पर विराजमान हैं। इस मंदिर के वातावरण को काफी ठंडा रखा जाता है परंतु इसके बावजूद भी बालाजी को गर्मी लगती है। भगवान की प्रतिमा को पसीना आता है और पसीने की बूंदे देखी जा सकती हैं।

5. भगवान वेंकटेश्वर के इस मंदिर से 23 किलोमीटर दूरी पर एक गांव है, और यहां बाहरी व्यक्ति का प्रवेश वर्जित है। इस गांव के लोग बहुत ही अनुशासित हैं और नियमों का पालन कर जीवन जीते हैं। ऐसा माना जाता है कि इस मंदिर में चढ़ाया जाने वाला पदार्थ जैसे फूल, फल, दही, घी, दूध, मक्खन आदि इसी गांव से आता है।

6. भगवान वेंकटेश्वर के हृदय में माता लक्ष्मी जी की आकृति नजर आती है। माता की मौजूदगी का पता तब चलता है जब हर गुरुवार को बालाजी का पूरा श्रृंगार उतारकर उन्हें स्नान करवाकर चंदन का लेप लगाया जाता है और जब इस लेप को हटाया जाता है तो हृदय पर लगे चंदन में देवी लक्ष्मी जी की छवि उभर कर आती है।

7. भगवान श्री वेंकटेश्वर स्वामी मंदिर में एक दीया हमेशा जलता रहता है और सबसे आश्चर्य कर देने वाली बात यह है कि इस दीपक में कभी भी तेल या घी नहीं डाला जाता है। यह दीया वर्षों से जल रहा है। आखिर इस दीपक को कब और किसने जलाया था, इसके बारे में भी किसी को कुछ पता नहीं है।

8. भगवान के इस मंदिर के मुख्य द्वार पर दरवाजे के दाएं तरफ एक छड़ी है और इस छड़ी के बारे में ऐसा बताया जाता है कि बाल्यावस्था में इस छड़ी से ही भगवान बालाजी की पिटाई की गई थी। इस वजह उनकी ठुड्डी पर चोट लग गई थी। इसी कारणवश तब से लेकर आज तक उनकी ठुड्डी पर शुक्रवार को चंदन का लेप लगाया जाता है ताकि उनका घाव भर जाए।

9. भगवान के इस मंदिर में जो लोग जाते हैं, उनका कहना है कि भगवान वेंकटेश्वर की मूर्ति पर कान लगाकर सुनने पर समुद्र की लहरों की आवाज सुनाई देती है। ऐसा भी बताया जाता है कि मंदिर में मूर्ति हमेशा नम रहती हैं।

10. भगवान वेंकटेश्वर की प्रतिमा पर खास तरह का पचाई कपूर लगाया जाता है। ऐसा कहा जाता है कि इसे किसी भी पत्थर पर लगाया जाता है तो वह कुछ समय के बाद ही चटक जाता है परंतु भगवान की प्रतिमा पर इसका कोई भी असर नहीं होता है।

Back to top button