धार्मिक

गरुड़ पुराण के अनुसार यह 3 आदतें परिवार का छीन लेती हैं सुख और चैन, समय रहते कर लीजिए बदलाव

इंसान अपने घर-परिवार की परेशानियों को दूर करने और उसे खुशहाल बनाने की हर संभव कोशिश करता है। अगर परिवार में खुशियां बनी रहेंगी तो इससे घर में बरकत भी बनी रहती है। ऐसा कहा जाता है कि जिस घर के अंदर आए दिन किसी न किसी बात को लेकर वाद-विवाद होता है, उस घर की बरकत चली जाती है। जैसा कि हम सभी लोग जानते हैं एक परिवार में कई सदस्य रहते हैं और सभी का व्यवहार और स्वभाव भी अलग-अलग देखने को मिलता है।

ऐसे बहुत से घर-परिवार हैं जिनमें भले ही सभी लोगों का स्वभाव अलग-अलग है परंतु घर के सभी सदस्य प्रेम पूर्वक आपस में मिलजुल कर रहते हैं। तो कहीं-कहीं पर हर बात पर बहस और क्लेश की स्थिति बनी रहती है। गरुड़ पुराण के अनुसार ऐसी स्थिति की जिम्मेदार हमारी गलत आदतें होती हैं। जी हां, इन आदतों की वजह से हमारे घर के माहौल पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। इन गलत आदतों की वजह से परिवार के सदस्यों के बीच आपसी क्लेश बना रहता है और स्वभाव में गुस्सा और चिड़चिड़ापन बढ़ता है।

आपको बता दें कि हिंदू धर्म में 18 पुराणों में से गरुड़ पुराण भी एक है। गरुड़ पुराण में बेहतर तरीके से जीवन जीने का मार्गदर्शन मिलता है। इंसान को अपने जीवन में क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए? इंसान का व्यवहार कैसा होना चाहिए आदि के बारे में गरुड़ पुराण में उल्लेख किया गया है। आज हम आपको गरुड़ पुराण के अनुसार, उन आदतों के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं, जो घर का सुख और चैन छीन लेती हैं। समय रहते आप इन आदतों में बदलाव कर लीजिए।

रात में जूठे बर्तन छोड़ने की आदत

आजकल के समय में लोगों का जीवन काफी व्यस्त हो चुका है। व्यस्त जीवनशैली की वजह से लोगों के पास खुद के लिए भी समय नहीं हो पाता है। लोग अक्सर घर का काम करने के लिए कामवाली रख लेते हैं। कामवाली शाम को ही घर का सारा काम और बर्तन साफ करके चली जाती है। ऐसे में जब लोग रात में खाना खाते हैं तो जूठे बर्तन सिंक में ही पड़े रह जाते हैं। गरुड़ पुराण के अनुसार, रात के समय रसोईघर में जूठे बर्तन छोड़ने की वजह से दरिद्रता आती है। इसकी वजह से घर में कलेश और लड़ाई-झगड़े होने की स्थिति भी पैदा होने लगती है।

घर को गंदा रखने की आदत

गरुड़ पुराण के अनुसार, जिस घर के अंदर हमेशा साफ-सफाई का ध्यान रखा जाता है। उस घर में धन की देवी माता लक्ष्मी जी का वास होता है परंतु जो घर गंदा रहता है, घर के लोग साफ-सफाई के साथ नहीं रहते हैं। उस घर से लक्ष्मी जी रूठ कर चली जाती हैं। ऐसे घर के अंदर मां लक्ष्मी जी का वास नहीं होता है। इतना ही नहीं बल्कि घर में बीमारियां बढ़ने लगती हैं, जिसके कारण फिजूलखर्ची भी बढ़ती है। घर को गंदा रखने की वजह से घर में मतभेद बढ़ने लगते हैं। परिवार के सदस्यों के बीच झगड़े होते रहते हैं। इसी वजह से घर में साफ-सफाई का ध्यान रखना बहुत जरूरी है और सभी चीजें सही स्थान पर रखना चाहिए।

कबाड़ इकट्ठा करने की आदत

ऐसे बहुत से लोग हैं जिनकी यह आदत होती है कि घर की छत पर कबाड़ डाल देते हैं और कबाड़ रखकर भूल जाते हैं परंतु गरुड़ पुराण में इस बात का उल्लेख किया गया है कि कबाड़ को घर के किसी भी हिस्से में नहीं रखना चाहिए क्योंकि ऐसा बताया जाता है कि घर के किसी भी हिस्से में कबाड़ रखने की वजह से नकारात्मक ऊर्जा तेजी से बढ़ने लगती है और व्यक्ति को आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ता है। इतना ही नहीं बल्कि घर में क्लेश की स्थितियां भी उत्पन्न होने लगती हैं। आपको इस बात का ध्यान रखना होगा कि जंग लगा हुआ लोहा या फर्नीचर जैसे कबाड़ घर में ना रखें क्योंकि इसकी वजह से घर के क्लेश बड़े विवादों में बदलने की संभावना रहती है।

Back to top button