बॉलीवुड

एक हादसे ने बदल दी थी शाहरुख़ की बहन की किस्मत, आज गुमनामी में जीती हैं ज़िन्दगी

आप “बॉलीवुड का बादशाह” कहे या “किंग ऑफ बॉलीवुड” या फिर “किंग खान” या “किंग ऑफ रोमांस” यह सभी नाम बॉलीवुड के सुपरस्टार शाहरुख खान के हैं, जो उन्हें लोग प्यार से कहते हैं। शाहरुख खान ने अपने फिल्मी करियर में कई किरदार निभाए हैं और वह अपने हर किरदार को बखूबी तरीके से निभाना जानते हैं। शाहरुख खान बॉलीवुड के सर्वश्रेष्ठ एवं सफल अभिनेता हैं, जिन्होंने अपने शानदार अभिनय अंदाज से करोड़ों लोगों के दिलों में अपने लिए एक खास जगह बना ली है।

भले ही आज शाहरुख खान के पास किसी भी चीज की कमी नहीं है। उनके पास सभी सुख-सुविधाओं की चीजें उपलब्ध हैं परंतु इसके बावजूद भी इन दिनों वह बहुत मुश्किल परिस्थितियों से गुजर रहे हैं। जी हां, बॉलीवुड के “किंग खान” के घर पर मुश्किलों के बादल छाए हुए हैं। दरअसल, उनका बेटा आर्यन खान ड्रग्स मामले में जेल में बंद है, जिसके कारण परिवार के सभी सदस्य परेशान चल रहे। शाहरुख खान अपने बेटे को छुड़वाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं परंतु सारी कोशिशें नाकाम साबित हो रही हैं।

shahrukh khan sister

आर्यन खान को लेकर मां गौरी खान और बहन सुहाना सब बहुत परेशान हैं। माता-पिता को अपने बेटे आर्यन की दिन-रात चिंता लगी रहती है। इन दिनों यह परिवार लाइमलाइट से भी दूर है परंतु शाहरुख खान के परिवार का एक और सदस्य है जो पहले से ही लाइमलाइट से दूर रही हैं।

जी हां, हम आपको शाहरुख खान की बड़ी बहन शहनाज लालारुख खान के बारे में बता रहे हैं। शाहरुख खान की बहन उनसे करीब 6 साल बड़ी हैं और उन्होंने अभी तक शादी नहीं की है। शाहरुख खान की बड़ी बहन लाइमलाइट से दूर रहना पसंद करती हैं परंतु कभी-कभी वह अपने भाई के परिवार के साथ देखी जा चुकी हैं लेकिन अब काफी समय हो गया है वह नजर नहीं आई हैं।

बॉलीवुड के सुपरस्टार शाहरुख खान ने अपने जीवन में बहुत दु:खो का सामना किया है। वहीं उनकी बड़ी बहन शहनाज लालारुख ने भी अपने जीवन में बहुत दुख देखे हैं। शाहरुख की बहन के जीवन में कुछ ऐसे हादसे घटे हैं, जिन्होंने उनकी बहन को खामोश कर दिया है। आखिर शाहरुख खान की बहन शहनाज लालारुख खान अब कहां हैं? आज हम आपको इसके बारे में बताने जा रहे हैं।

शाहरुख खान की बहन शहनाज लालारुख का जीवन बहुत दुख में व्यतीत हुआ है। साल 1981 में शाहरुख खान के पिताजी की मृत्यु कैंसर की बीमारी से हो गई थी। जिस दिन पिता की मृत्यु हुई थी, उस दिन शहनाज लालारुख घर पर नहीं थीं परंतु जैसे ही वह घर पर वापस आईं तो उन्होंने अपने पिता के मृत शरीर को देखा और वह बेहोश हो गई थीं। पिता की मृत्यु का सदमा शहनाज के दिल दिमाग पर लगा। इस सदमे से वह डिप्रेशन का शिकार हो गई थीं और वह बीमार रहने लगी थीं। उस समय के दौरान शाहरुख खान की उम्र महज 15 वर्ष की थी।

शाहरुख खान ने बताया था कि एक दिन जब वह घर लौटे तो उनके पिता ने बताया कि उन्हें कैंसर हो गया है, क्योंकि उस समय वह इस बीमारी की गंभीरता को नहीं जानते थे, तो सभी ने सोचा कि यह ठीक हो जाएगा परंतु ऐसा ना हो सका। महज 3 महीने बाद ही शाहरुख के पिताजी इस दुनिया को छोड़ कर चले गए। उनके निधन से पूरा परिवार सदमे में था। कुछ महीने बाद जब परिवार इस सदमे से उबरने की कोशिश में लगा हुआ था तभी एक और दुखद परिस्थिति जीवन में आ गई। इसी बीमारी की वजह से उनकी मां भी गुजर गईं।

shahrukh khan sister

माता-पिता के निधन के बाद शाहरुख खान और उनकी बहन को गहरा सदमा लगा परंतु शहनाज लालारुख को मां-पिता की मृत्यु का ऐसा सदमा लगा कि उनकी आंखों से आंसू भी ना निकल सके और उन्होंने कई साल गुमसुम रहकर ही व्यतीत कर दिए। शाहरुख खान ने कहा कि वह रोई नहीं थी, उसने कुछ भी नहीं कहा। वह बस गिर गई और उसका सिर नीचे जमीन पर टकरा गया। घटना के 2 साल बाद वह ना रोई और ना ही बोली। बस वह आसमान की तरफ देखती थी तो केवल देखती रहती थी और इस दौरान वह किसी से कुछ भी बात नहीं करती थी।

शाहरुख खान ने बताया 2 साल तक वह इस सदमे से बाहर नहीं निकल पाईं। जब पिताजी की मृत्यु हुई थी तब उसके बाद वह रोती भी नहीं थी परंतु उनके जाने का गम उनके चेहरे पर साफ साफ नजर आता था। वह काफी लंबे समय तक डिप्रेशन का शिकार रही थीं। उसके बाद मां के जाने के गम ने उन्हें अंदर से पूरी तरह से तोड़ दिया। इस घटना के बाद जैसे मानो उनकी जिंदगी ही बदल गई हो। फिलहाल वह बेहतर है परंतु कुछ प्रभाव अभी भी उनमें दिखाई देते हैं।

शाहरुख़ ने कहा “दिलवाले दुल्हनिया ले जायेंगे” फिल्म की शूटिंग के दौरान उनकी तबीयत फिर से बिगड़ गई थी, जिसके बाद उन्हें इलाज के लिए स्विट्जरलैंड ले जाया गया था। शाहरुख खान ने बताया कि मैं उस समय के दौरान “तुझे देखा तो ये जाना सनम” गाने की शूटिंग कर रहा था। उस समय स्विट्जरलैंड में शहनाज का इलाज चल रहा था। इलाज के बाद उनकी हालत पहले से बेहतर हो गई थी लेकिन वह पूरी तरह से ठीक नहीं थी।

आपको बता दें कि शाहरुख खान की बहन शहनाज लालारुख पिता मीर ताज मोहम्मद के बेहद क्लोज थीं। उन्हें मिडल नेम “लाला रुख” उनके पिता ने ही दिया था। इस नाम का मतलब फूल जैसी कोमल और खूबसूरत होता है। जब माता-पिता का निधन हो गया तो उसके बाद सारी जिम्मेदारी शाहरुख खान के कंधों पर आ गई थी। उन्होंने अपनी बड़ी बहन को संभाला। आज भी वह अपने भाई के घर पर ही रहती हैं। उन्होंने अभी तक विवाह नहीं किया है और वह कोई कार्य भी करती हैं या नहीं? इसकी किसी भी प्रकार की कोई जानकारी नहीं है।

शाहरुख खान ने अपनी बहन को अच्छी जिंदगी देने में किसी भी प्रकार की कोई कमी नहीं छोड़ी है। उनके जीवन में ऐसे हादसे घट गए हैं कि वह चाह कर भी भुला नहीं पा रही हैं। शाहरुख की बहन अपनी जिंदगी गुमनामी में व्यतीत कर रही हैं।

Back to top button