अजब ग़जब

हेलिकॉप्टर में बारात लेकर पहुंची दुल्हन, देखते ही रह गए लोग, जंगल में हुई करोड़ों की शादी

गोली-बारूद के धमाकों से दहलने वाला नक्सल गढ़ का इलाका बस्तर को यू तो देश-दुनिया में लाल आतंक के कारण मशहूर है लेकिन इन दिनों ये किसी और कारणों से चर्चा का विषय बना हुआ है। दरअसल, यहां एक दुल्हन हेलीकॉप्टर में बारात लेकर जगदलपुर से बीजापुर पहुंची। इसके बाद से ही यह शादी चर्चा का विषय बन गई है।

दरअसल, बीजापुर में एक हेलिकॉप्टर देखकर लोग इसलिए ठिठक गए, क्योंकि हेलिकाप्टर में सैनिक नहीं, बल्कि लाल जोड़ा पहने एक दुल्हन और उसका परिवार वहां पहुंचा था। बीजापुर में रहने वाले पेशे से ठेकेदार सुरेश चंद्राकर का विवाह जगदलपुर में हाट कचौरा में रहने वाले विष्णु साहू की पुत्री रेणुका से तय हुआ था।

तीन इंफ्रा प्रोजेक्ट के मालिक सुरेश चंद्राकर धुर नक्सल प्रभावित इलाके के रहने वाले हैं। वह पेशे से ठेकेदार हैं। इसके अलावा महार समाज व बौद्ध महासंघ छत्तीसगढ़ के बीजापुर के जिला अध्यक्ष भी हैं। बता दें महार समाज में दूल्हन द्वारा दुल्हे के घर बारात ले जाने की परंपरा है।

ऐसे में उन्होंने शादी से पहले होने अपनी वाली पत्नी रेणुका वर्मा से वादा किया था कि, ‘मैं तुमसे जिस दिन शादी करूँगा उस दिन तुमको साथ फेरे लेने के लिए चॉपर से लेकर आऊंगा।’ सुरेश ने अपना ये वादा पूरा भी किया।

सगाई की रस्म तो जगदलपुर में सम्पन्न हुई, लेकिन शादी की सारी रस्म बीजापुर में सम्पन्न होना था। लग्न की रस्मों में शामिल होने के लिए रेणुका अपने मायके जगदलपुर से चॉपर में सवार होकर बीजापुर पहुंची थी। इस दौरान हैलीपेड पर देखने वालों का हुजूम उमड़ पड़ा। लोग अपने मोबाइल से वीडियो बनाने लगे।

बस्तर से बीजापुर पहुंचने पर दुल्हन का स्वागत ससुरला पक्ष से दूल्हे के परिवार वालों और मित्रों ने हेलीपैड पर किया। इसके बाद कार्यक्रम स्थल तक मर्सडीज कार में ले जाया गया। 23 दिसंबर को शादी के बाद 24 दिसंबर को दोनों का रिसेप्शन कार्यक्रम बीजापुर में संपन्न हुआ। जानकारी के मुताबिक, इस शादी में करीब 3 करोड़ रुपये खर्च हुए और यह सारा खर्च खुद सुरेश ने उठाया है।

Related Articles

Back to top button