विशेष

इस IAS अधिकारी ने 17 पहले गोद लिया था लड़की को, लड़की जवान होने के बाद फिर किया यह काम

अच्छाई की मिसालें तो आपने कई बार सुनी ही होगी लेकिन शायद ही आज के इस जमाने में आपने ऐसा कुछ देखा होगा। अब भलाई करने वाले लोग भला मिलते ही कहां है आप भी अगर ऐसा ही सोचते हैं तो आपको यह स्टोरी जरुर पढ़ना चाहिए। आज के इस दौर में जहां अच्छाई और भलाई की बड़ी बड़ी बाते तो सभी करते हैं, लेकिन जब किसी कि भलाई करने का मौका आता है तो लोग वहां से अपना पल्ला झाड़ ही लेते हैं। ऐसे दौर में भी आईएएस अधिकारी जे राधाकृष्णन ने अच्छाई की अलग ही मिसाल पेश की है।

2004 में आई थी सुनामी 

दरअसल 2004 में आई सुनामी में कई बच्चे अनाथ हो गए थे। ऐसे में जे राधाकृष्णन ने अपना फर्ज निभाते हुए कुछ बच्चों की जिम्मेदारी ली और उसे बखुबी पूरा भी किया। इस सुनामी में ही एक लड़की ने अपने माता पिता को खो दिया था। खूद यह बच्ची भी मलबे से मिली थी।

गोद ली बेटी की 17 साल बाद की शादी 

ऐसे में इस बच्ची की जिम्मेदारी पूरी करते हुए जे राधाकृषणन ने सोमवार को इस बच्ची की शादी करवाई। 17 साल पहले आई इस सुनामी से नागपट्टिनम जिले में सबसे ज्यादा नुकसान हुआ था। इसी सुनामी में राधाकृष्णन को सौम्या मिली। इस आपदा के समय में सौम्य मात्र 5 साल की ही थी। जब उसने अपने माता पिता को खो दिया था।

17 साल ने पूरी उठा रहे जिम्मेदारी 

ऐसे में जे राधाकृष्णन ने सौम्या की जिम्मेदारी अपने कंधों पर ली थी और अब 17 साल बाद जब जब सौम्या 22 वर्ष की हो गई तब जे राधाकृष्णन ने उसकी शादी कराई। सिर्फ शादी ही नहीं राधाकृष्णन ने पिता की ही तरह सौम्या की पढ़ाई, लालन पालन से लेकर हर जरुरतों को पूरा किया। राधाकृष्णन ने सौम्या को एडीएम कॉलेज फॉर विमेन से बीए इकॉनोमिक्स से ग्रेजुएशन करवाया।

मलबे से निकालने के बाद यहां किया शिफ्ट

पढ़ाई पूरी होने पर 7 फरवरी को सुभाष नाम के युवक से सौम्या की शादी करवाई। मलबे निकाले जाने के बाद सौम्या को वेलंकन्नी जिले के अन्नाई सत्य गवर्नमेंट होम में शिफ्ट कर दिया गया। दरअसल तमिलनाडु सरकार ने यह सेंटर अनाथ बच्चों के लिए शुरू किया था।

सौम्या के साथ इस बच्ची की भी जिम्मेदारी ली 

सौम्या के अलावा राधाकृष्णन मीना नाम की बच्ची की भी जिम्मेदारी उठाते हैं। यहीं नहीं जब भी राधाकृष्णन यहां आते हैं तो सभी बच्चियों से पिता की तरह ही मिलते हैैं। सभी बच्चियां इन्हें पिता की तरह ही प्यार भी करती हैै।

Related Articles

Back to top button