विशेष

अफगानिस्तान की इकलौती पोर्न स्टार ने खोले तालिबान के बड़े राज, बोली- तालिबान ने मेरे साथ..

अफगानिस्तान की एडल्ट स्टार यासमीना अली इन दिनों खूब चर्चा में है। हाल ही में उन्होंने अपने एडल्ट स्टार बनने को लेकर तालिबान को जिम्मेदार ठहराते हुए कई चौंकाने वाले खुलासे किए। उन्होंने बताया कि तालिबान उनके पीछे हाथ धो कर पड़ा है। यासमीना बताती हैं कि उनको अफ़गानिस्तान के लोग ज्यादा पसंद नहीं करते हैं, और उन्हें भद्दे-भद्दे मैसेज भेजते हैं।

सभी शरीर को समझते हैं अपना मालिक

अफगानिस्तान की इकलौती एडल्ट स्टार यासमीना अली ने तालिबान राज को लेकर कई खुलासे किए हैं। तालिबान के पहले शासनकाल के दौरान यासमीना काफी छोटी थीं। लेकिन उन्होंने उस दर्द को बयां किया है। यासमीना अली ने खुलासा किया है, कि कैसे तालिबान खुद को उसके शरीर का मालिक समझते हैं।

19 साल में शादी करने वाले थे माता-पिता

1990 के दशक में तालिबान के सत्ता में आने के बाद यासमीना अली और उनके परिवार ने अफगानिस्तान छोड़ दिया। वे ब्रिटेन चले गए जहां यासमीना ने शिक्षा हासिल की। उनके माता-पिता चाहते थे कि वह 19 साल की उम्र में दुल्हन बन जाएं लेकिन यासमीना को यह मंजूर नहीं था।

‘मुझे परवाह नहीं मेरे बारे में क्या सोचते हैं’

यासमीना ने इस्लाम को त्याग दिया और नास्तिक बन गईं जिसके बाद उन्होंने पॉर्न इंडस्ट्री में कदम रखा। यासमीना ने बताया कि, घर छोड़ने के बाद से उन्होंने अपने परिवार से बात नहीं की है। उन्होंने कहा, ‘मैं 19 साल की उम्र में भाग गई थी क्योंकि वे मेरी मर्जी के खिलाफ शादी करवाना चाहते हैं। उन्होंने यह जानने की कोशिश नहीं की कि मैं क्या चाहती हूं। मैंने उनमें (माता-पिता) से किसी से भी बात नहीं की है और न ही मेरा उनसे फिर कभी बात करने का इरादा है।’

वन पॉर्न स्टार बन गई यासमीना

यासमीना अली ने पॉर्न की दुनिया में कदम रख दिया और देखते ही देखते वो अफगानिस्तान की नंबर वन पॉर्न स्टार बन गई। खुद को एक नारीवादी कार्यकर्ता मानने वाली यासमीना अली अपने आप को अफगानिस्तान की नंबर वन और इकलौती पॉर्न स्टार मानती हैं।

क्यों पड़ा है तालिबान पीछे

आपको बता दें वैसे तो यासमीना इस्लाम छोड़ चुकी हैं, लेकिन वह पॉर्न फिल्म शूट करते वक्त हिजाब का इस्तेमाल करती हैं। यही वजह है कि तालिबान उनके पीछे पड़ा हुआ है। यासमीना ने एक इंटरव्यू के दौरान बताया कि तालिबान के पास उनकी हर डिटेल है, और तालिबान नहीं चाहता है कि उनके नाम अफगानिस्तान से जोड़ा जाए।

‘अफगानिस्तान मेरे कंटेंट से करता है नफरत’

फेमिनिस्ट सेक्स एक्टिविस्ट यासमीना का तो मानना है कि वह देश की इकलौती पॉर्न स्टार हैं। यासमीना ने नास्तिक बनने के लिए अपनी मुस्लिम धर्म की जड़ों को त्याग दिया है। उनका मानना है कि तालिबान पॉर्न वेबसाइट के माध्यम से उनके बारे में सब कुछ जानता है। डेलीस्टार की रिपोर्ट के मुताबिक एक पॉडकास्ट में यासमीना ने कहा कि तालिबानी ज्यादातर मेरे कंटेंट से नफरत करते हैं क्योंकि वे नहीं चाहते कि अफगानिस्तान पॉर्न के लिए जाना जाए।

अंडरकवर एजेंट बताते हैं लोग

इसके साथ ही यासमीना का कहना है कि, उसे कई लोग अकसर धमकियां देते रहते हैं और अकसर मैसेज में यहूदी और अंडरकवर एजेंट बताते रहते हैं। उन्होंने कहा कि, ”शायद तालिबान के लोग मेरा वीडियो देखते हैं और मुझे धमकी देते हों।” यासमीना ने बताया कि, ”मैं एक अफगान हूं और तालिबान के लोग मेरा वीडियो देखते होंगे, इसमें मुझे कोई हैरानी नहीं है और सिर्फ अफगान पॉर्न सर्च करने पर ही मेरा नाम आ जाता है”।

तालिबान के लिए ‘रेप’ जैसी चीज नहीं

यासमीना अली ने बताया कि, अफगानिस्तान में उनका जीवन बेहद ही विपरीत, तकलीफों और तालिबान के जुल्म से भरा हुआ था। उन्होंने बताया कि, जब वह छोटी थी तो उनकी माँ ने बताया था कि तालिबान में रेप जैसी कोई चीज नहीं थी। मैंने मेरे अंदर वो फीलिंग्स अभी भी जिंदा है और मैं उन अहसासों को नहीं भूली हूं। आप अपने आस-पास इस हिंसा को देखते हैं तो काफी निराश होते हैं। उन्होंने कहा कि, सिर्फ महिलाओं से ही नहीं, बल्कि तालिबान के लोग मुस्लिम मर्दों को भी बुरी तरह से पीटते थे।

Related Articles

Back to top button